जाने कौन हैं सबरीना सिंह जो US उपराष्ट्रपति उम्मीदवार की प्रेस सेक्रेटरी बनीं

  • उपराष्ट्रपति पद की उम्मीदवार कमला हैरिस की प्रेस सचिव
  • दो डेमोक्रेटिक उम्मीदवारों की प्रवक्ता रह चुकी हैं सबरीना

सीनेटर और डेमोक्रेटिक पार्टी से उपराष्ट्रपति पद की उम्मीदवार कमला हैरिस ने सोमवार को भारतीय-अमेरिकी सबरीना सिंह को अपने कैम्पेन के लिए प्रेस सेक्रेटरी नियुक्त किया.

अगर आगे चल कर हैरिस अफ्रीकी-भारतीय मूल की पहली महिला के तौर पर अमेरिकी राष्ट्रपति पद के लिए उम्मीदवार बनती हैं तो सबरीना सिंह ऐसी पहली भारतीय-अमेरिकी प्रेस सेक्रेटरी हो सकती हैं जो किसी अहम राजनीतिक दल की ओर से उपराष्ट्रपति के लिए उम्मीदवार बनें. यंग एचीवर 33 साल की सबरीना पहले राष्ट्रपति पद के लिए दो डेमोक्रेटिक उम्मीदवारों की प्रवक्ता रह चुकी हैं. उन्होंने न्यू जर्सी के सीनेटर कोरी बुकर और न्यू यॉर्क के मेयर माइक ब्लूमबर्ग, दो डेमोक्रेटिक उम्मीदवारों के लिए प्रेस शॉप्स को हेड भी किया.

कमला हैरिस के लिए आधिकारिक तौर पर प्रेस सेक्रेटरी बनने के बाद सबरीना ने ट्वीट में लिखा, “मैं @KamalaHarris के लिए प्रेस सचिव के रूप में #BidenHarris टिकट में शामिल होने को लेकर बहुत उत्साहित हूं! काम करने के लिए इंतजार नहीं कर सकती और नवंबर में जीतने के लिए!”

कौन हैं सबरीना सिंह?

अमेरिका में रहने वाले कई भारतीय-अमेरिकियों की तरह, सबरीना सिंह की जड़ें भी भारतीय संस्कृति और अपने परिवार से गहराई से जुड़ी हैं. उन्हें पारिवारिक विरासत के हिस्से के रूप में समानता और उदारवाद के मुद्दों पर मजबूती और सक्रियता मिली है.

सबरीना सिंह के दादा सरदार जगजीत सिंह ने उस वक्त अमेरिका में बदलावों में योगदान दिया जब उथल-पुथल का दौर था. इंडिया लीग ऑफ अमेरिका के सजीले और 6 फीट लंबे इस सिख ने आव्रजन के अधिकार को लेकर संघर्ष किया. लंबे, कठिन और देशव्यापी इस मुहिम का ही नतीजा था कि 2 जुलाई, 1946 को तत्कालीन राष्ट्रपति हैरी ट्रूमैन ने Luce-Cellar एक्ट पर हस्ताक्षर किए. इसके बाद 100 भारतीयों का कोटा हर साल अमेरिका में आव्रजन के लिए लागू हो गया.

सबरीना ने इस साल 1 मई को ट्वीट में लिखा- “आज #AAPIHeritageMonth की शुरुआत है और इसलिए मैं अमेरिका में AAPI मनाने के लिए इस (छोटे) थ्रेड को लेना चाहूंगी. साथ ही उन लोगों को याद करूंगी जिन्होंने स्वतंत्रता और अवसरों को संभव बनाया.” AAPI एशियन अमेरिकन्स एंड पैसिफिक आईलैंडर्स के लिए इस्तेमाल किया जाता है.

सबरीना ने एक और ट्वीट में लिखा “मेरे दादा जे जे सिंह की तरह, जो इंडिया लीग ऑफ के प्रमुख थे. 1940 के दशक में उन्होंने और अन्य नस्लीय भेदभावपूर्ण नीतियों के खिलाफ मुहिम चलाई और भारतीयों के लिए नागरिकता हासिल करने की लड़ाई लड़ी.” सबरीना ने अपने दादा की वो ऐतिहासिक तस्वीर भी ट्वीट की, जिसमें राष्ट्रपति ट्रूमैन की ओर से एक्ट पर हस्ताक्षर करते वक्त वो साथ खड़े दिख रहे हैं.

सबरीना ने ट्वीट में लिखा “इस दबाव ने राष्ट्रपति हैरी ट्रूमैन को 2 जुलाई, 1946 को Luce-Cellar एक्ट पर हस्ताक्षर करने के लिए प्रेरित किया, जिसने अमेरिका में रहने वाले करीब 3,000 भारतीयों को अमेरिकी नागरिकता प्रदान की. (ट्रूमैन के दाएं से दूसरे).” सबरीना अपने माता-पिता का जिक्र भी गर्मजोशी से करती हैं, जिनका वो अपने जिंदगी के फैसले लेने पर खासा असर मानती हैं.

सबरीना सिंह के पिता मनजीत सिंह का 1956 में न्यू यॉर्क में जन्म हुआ. लेकिन वो जब महज पांच साल के थे, तो परिवार ने आजाद भारत में न्यू दिल्ली में बसने का फैसला किया. मनजीत और उनके भाई मन मोहन दिल्ली में ही पले बढ़े. जे जे सिंह का निधन 1976 में हुआ, अस्सी के दशक के शुरू में मनजीत सिंह ने पत्नी स्रिला सिंह के साथ अमेरिका में बसने का फैसला किया. उस वक्त वे सोनी इंडिया के सीईओ और चेयरमैन थे.

इंडिया अब्रोड को इस साल फरवरी में दिए एक इंटरव्यू में सबरीना सिंह ने कहा कि जब मेरे दादा का निधन हुआ, मेरे पिता किशोर उम्र के थे. मैं अपने दादा के बारे में ज्यादा नहीं जानती लेकिन मेरे माता-पिता अक्सर उनका जिक्र करते थे. दादा के बारे में सबरीना कहती हैं- “लेकिन, मुझे वास्तव में कॉलेज आने तक इस बारे में नहीं पता था कि वह अमेरिका में क्या करते थे, फिर मैंने उनके अहम प्रभाव को समझना शुरू किया, फिर खुद को गौरवान्वित अनुभव होने लगा, ये मेरे लिए प्रेरित करने वाला था. तब से मैंने सरकार में दिलचस्पी लेना शुरू किया. मैं हमेशा कुछ अच्छा करना और परिवर्तन लाना चाहती थी. मैं बराक ओबामा के चुनाव से प्रेरित होकर वाशिंगटन आई. ग्रेजुएट होने के बाद मैं उस दिशा के लिए बढ़ी, जहां आज हूं.”

सबरीना सिंह ने मई में अपने दादा और उनके माता-पिता के समर्थन और प्रेरणा पर ट्वीट किया. उन्होंने लिखा था, “और मेरे अविश्वसनीय माता-पिता, जो 1980 के दशक में नई दिल्ली से लॉस एंजिल्स आए और मुझे सिखाया कि उसके लिए हमेशा लड़ो, जिसमें विश्वास करते हो.”

Share:

Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
Share on linkedin
Share on whatsapp

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

On Key

Related Posts

talks

अमेरिकी रक्षा मंत्री व् विदेश मंत्री आएंगे भारत ,होगी विशेष मुद्दों पर बात।

चुनाव से ठीक एक सप्ताह पहले, राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्र्ंप के दो शीर्ष राष्ट्रीय सुरक्षा सहयोगी चीन की बढ़ती वैश्विक ताकत समेत दूसरे मुद्दों पर वार्ता 

covaccine

corona vaccine : बायोटेक्नोलॉजी कम्पनी भारत बायोटेक को COVAXIN के अगले चरण के क्लिनिकल ट्रायल को मिली मंजूरी।

coronavirus  vaccine:  #1भारत बायोटेक ने tweet कर कहा कि COVAXIN™️ के तीसरे चरण के क्लिनिकल ट्रायल शुरू करने के लिए DGCI ने अप्रूवल दे दिया

पावर कट से थमी मुंबई की रफ़्तार

लखनऊ : मानसिक विक्षिप्त महिला ने बच्ची को जन्म दिया पुलिस ने पहुंचाया अस्पताल

लखनऊ में सड़कों पर घूमने वाली मानसिक विक्षिप्त महिला ने बच्ची को जन्म दिया है। महिला सड़क पर प्रसव पीड़ा से तड़प रही थी। राहगीर

Foreign minister

अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने कहा ,भारत की उत्तरी सीमा पर चीन ने तकरीबन 60,000 सैनिकों की तैनाती,

वाशिंगटन : LAC पर भारत और चीन के मध्य  सीमा तनाव जारी है. सीमा पर गतिरोध के बीच चीन ने वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर 60,000 से

subscribe to our 24x7 Khabar newsletter