देश का कौन सा थाना नंबर वन,प्राइवेट एजेंसी करेगी सर्वे,

देश का सर्वश्रेष्ठ थाना कौन सा है और पुलिस का व्यवहार नागरिकों के प्रति कैसा है? यह मालूम करने के लिए केंद्रीय गृह मंत्रालय प्राइवेट एजेंसी से देश के 14840 थानों का सर्वे कराने वाला है। सर्वे में टॉप 10 और टॉप 50 थानों की क्या खूबियां व खामियां हैं। सरकार यह सब जान इसमें सुधार कराएगी। सर्वे एजेंसी थानों के आसपास रहने वाले लोगों, बाजार की दुकानों और पैदल राहगीरों से बात कर थाने में पुलिस के व्यवहार पर व्यापकर रपट तैयार कर रेटिंग देगी।

कंपनी को केसों से संबंधित रिकॉर्ड नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) उपलब्ध कराएगा। सर्वे में महिला पुलिस, साइबर अपराध और कमजोर वर्गों के खिलाफ आई शिकायतों का निपटारा करने वाले थाने भी शामिल रहेंगे और सभी के लिए समान मापदंड होंगे।

गृह मंत्रालय की ओर से प्राइवेट कंपनी को टेंडर देने की औपचारिकताएं पूरी की जा रही हैं। देश में स्वीकृत थानों की संख्या इस समय 16679 हैं। इनमें से 10021 थाने ग्रामीण क्षेत्र में और 4819 थाने शहरी क्षेत्र में कार्यरत हैं। जिम्मेदारी देने से पहले कंपनी का यह आंकलन भी किया जाएगा कि सर्वे करने वाली कंपनी को पुलिस कार्यप्रणाली का गहराई से अनुभव हो।

निविदा में प्राइवेट कंपनी कैसे काम करेगी, उसका वर्क प्लान क्या होगा? इतने बड़े सर्वे के लिए तकनीकी अप्रोच क्या होगी? और कंपनी के पास सटीक सर्वे करने के लिए कितने कर्मचारी हैं। कंपनी संगठन संरचना क्या है? इसकी जानकारी मांगी गई है। जिस कंपनी को टेंडर मिलेगा वह 75 दिनों में अपनी अंतिम रपट जमा कराएगी।

सर्वे में थानों का इन बातों से किया जाएगा आंकलन
-थाने में पुलिस का भाषाई लहजा कैसा है?
– झपटमारी की सूचना पर पुलिस मौके पर कितनी देर में पहुंचती है
-पीड़ित की सुनवाई बिना सिफारिश या रिश्वत लेकर होती है या फिर निष्पक्षता से पुलिसिया कार्रवाई चलती है।
-थाने आने वाले लोगों से शिष्टाचार के लिए चाय-पानी के लिए पूछा जाता है या नहीं। थाने में आने वालों के लिए बैठने की व्यवस्था कैसी है?
-थाने के एसएचओ के लिए उपलब्ध सुविधाओं के खर्च का पैसा कहां से आता है?
– थानों में स्वच्छ भारत अभियान का स्टे्टस क्या है, सीसीटीवी कितने हैं, लॉकअप में सीसीटीवी की स्थिति, पुलिस कर्मियों की ड्रेस, स्टाफ संख्या और मैनुअल रिकॉर्ड की जांच होगी।
– थाना परिसर में पब्लिक पार्किंग, शौचायल, डस्टबीन, बिजली बैकअप, पब्लिक लाइब्रेरी, जिम और हेल्पडेस्क को लेकर भी सर्वे होगा।

Share:

Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
Share on linkedin
Share on whatsapp

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *