1000 करोड़ घोटाला: ED ने IT विभाग से मांगे दस्तावेज़, फर्ज़ीवाड़े में बड़े बैंक अधिकारी-चीनी नागरिकों के शामिल होने का संदेह

नई दिल्ली: चीनी कंपनियों की मिलीभगत से फर्जी कंपनियां खोलकर 1000 करोड़ रुपये का हवाला करने के मामले में ईडी ने आयकर विभाग से दस्तावेज मांगे हैं. इस मामले में कुछ चीनी नागरिकों के शामिल होने की बात भी सामने आ रही है और एक बैंक के बड़े अधिकारी और कर्मचारी भी इस घोटाले में शामिल बताए जा रहे हैं. आयकर विभाग ने इस मामले में मंगलवार को छापेमारी की थी.

 

1000 करोड़ रुपये के घोटाला रैकेट के मुख्य आरोपी चार्ली से आयकर विभाग की लगातार पूछताछ जारी है और उसके सहयोगियों के ठिकानों पर आयकर विभाग अभी भी छापेमारी कर रहा है. आयकर विभाग को अब तक की जांच के दौरान पता चला है कि चार्ली और उसके सहयोगियों ने फर्जी दस्तावेजों के आधार पर कंपनियां खोलकर लगभग 1000 करोड़ रुपये का हवाला कारोबार किया है और इस कारोबार में कुछ भारतीय कंपनियों समेत एक बड़े बैंक के अधिकारी कर्मचारी भी शामिल हैं.

खुफिया विभाग के एक आला अधिकारी ने बताया कि चार्ली को सितंबर 2018 में मणिपुर से बनवाए गए फर्जी पासपोर्ट के साथ दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने गिरफ्तार किया था. बाद में चार्ली जमानत पर रिहा हो गया था और गुरुग्राम में एक कंपनी बनाकर उसने अपना कारोबार फिर से शुरू कर दिया था. आयकर विभाग चार्ली की गतिविधियों पर लगातार निगाह रख रहा था. इनकम टैक्स को इस बात की जानकारी मिली थी कि देश में हवाला के जरिये करोड़ों का कारोबार हो रहा है और इसमें चीन के नागरिक भी शामिल हैं.

 

इसी जानकारी के आधार पर इनकम टैक्स ने दिल्ली, गाजियाबाद और गुरूग्राम में रिटेल शॉप, बैंक अधिकारी, चार्टेड अकांउटेंट और व्यापारियों के 24 ठिकानों पर ये छापेमारी की. इस छापेमारी में पता चला कि चीन के लोग भारत में बैंक अधिकारियों, चार्टेड अकाउंटेंट के साथ मिलकर हवाला और मनी लॉन्ड्रिंग का कारोबार चला रहे हैं. इन चीनी नागरिकों के कहने पर फर्जी कंपनियां बनाईं गईं और 40 बैंक खाते खोले गए, जिसके जरिये 1000 करोड़ का हवाला का कारोबार किया.

 

इन फर्जी कपंनियों के जरिये 100 करोड़ रुपये निकाले गये और फिर उनसे देशभर में रिटेल शोरुम खोले गये. खुफिया एजेंसी के एक आला अधिकारी ने बताया कि एक बार फिर चार्ली और उसके संबंधों की जांच शुरू कर दी गई है और चार्ली के बारे में फिर से सूचनाएं इकट्ठा करने का काम किया जा रहा है.

 

खुफिया एजेंसी के आला अधिकारी के मुताबिक इस बात की जांच की जा रही है कि चार्ली कभी तिब्बत या चीन की जेल में तो बंद नहीं रहा, क्योंकि अक्सर वहां की जेलों में बंद रहने वाले अपराधियों को चीनी खुफिया एजेंसी अपना एजेंट बना कर दूसरे देशों में जासूसी करने के लिए भेजती हैं. साथ ही जांच एजेंसी इस बात का भी पता करेंगी की चार्ली के पास पैसा किन माध्यमों से आता था. चीनी कंपनियों की कथित घोटालेबाजी को लेकर विभिन्न जांच एजेंसियों ने जांच शुरू कर दी है और ईडी ने मामले से संबंधित दस्तावेज आयकर विभाग से मांगे हैं.

 

Share:

Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
Share on linkedin
Share on whatsapp

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

On Key

Related Posts

निर्वाचन आयोगः देश भर में एक लोकसभा और 64 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव, मुख्य चुनाव आयुक्त अरोड़ा बोले- 29 सितंबर को निर्णय

नई दिल्लीः निर्वाचन आयोग एक लोकसभा सीट और 64 विधानसभा सीटों के लिए उपचुनाव कराने पर संबंधित राज्यों के चुनाव अधिकारियों और मुख्य सचिवों से मिली

IPL 2020 : चेन्नई बनाम दिल्ली ,चेन्नई ने टॉस जीतकर गेंदबाज़ी का लिया फैसला

नई दिल्ली, जेएनएन। IPL 2020 CSK vs DC Match Live Update: इंडियन प्रीमियर लीग के 13वें सीजन का सातवां मुकाबला चेन्नई सुपर किंग्स और दिल्ली कैपिटल्स

subscribe to our 24x7 Khabar newsletter