Most Popular

Social Media

Get The Latest Updates

Subscribe To Our Weekly Newsletter

No spam, notifications only about new products, updates.

21-day Chandan Yatra started from Narendra Sarovar; Artisans engaged in the construction of grand chariots | नरेंद्र सरोवर से शुरू हुई 21 दिवसीय चंदन यात्रा; भव्य रथों के निर्माण में लगे कारीगर


  • Hindi News
  • National
  • 21 day Chandan Yatra Started From Narendra Sarovar; Artisans Engaged In The Construction Of Grand Chariots

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पुरी2 मिनट पहलेलेखक: अनिरुद्ध शर्मा

  • कॉपी लिंक
जगन्नाथ रथयात्रा के लिए रथों क - Dainik Bhaskar

जगन्नाथ रथयात्रा के लिए रथों क

ओडिशा के पुरी में 21 दिन चलने वाली चंदन यात्रा नरेंद्र सरोवर से शुरू हो गई है। इसी के साथ जगन्नाथ रथयात्रा के लिए रथों का निर्माण भी पूरे विधि-विधान के साथ शुरू हो गया है। मंदिर के अनुष्ठानों और रथ निर्माण में लगे उन्हीं पुजारियों व कारीगरों को अनुमति दी गई है, जिनकी कोरोना रिपोर्ट नेगिटिव है।

प्रशासन रथ यात्रा से जुड़े सभी पुजारियों, पुरोहितों और सेवकों की सूची भी तैयार कर रहा है। सोमवार से सभी को कोरोना का टीका भी लगाया जाएगा, ताकि दो महीने बाद जब रथ यात्रा शुरू हो तब तक सभी को टीके की दोनों डोज लग चुकी हों। दूसरी ओर, स्थानीय प्रशासन ने तय किया है कि पिछले साल की तरह इस बार भी रथयात्रा बिना दर्शनार्थियों के ही संपन्न होगी।’

3 रथ बनाए जाते हैं हर साल; 13 हजार क्यूबिक फीट लकड़ी लगती है

मंदिर के अनुष्ठानों और रथ निर्माण में लगे पुजारियों व कारीगरों को कोरोना रिपोर्ट नेगिटिव होने के बाद ही अनुमति दी गई है।

मंदिर के अनुष्ठानों और रथ निर्माण में लगे पुजारियों व कारीगरों को कोरोना रिपोर्ट नेगिटिव होने के बाद ही अनुमति दी गई है।

भगवान जगन्नाथ रथयात्रा के लिए हर साल 3 रथ बनाए जाते हैं। इन रथों में पहिये से लेकर शिखर के ध्वजदंड तक 34 अलग-अलग हिस्से होते हैं। तीनों रथों के निर्माण में 4000 लकड़ी के हिस्से तैयार किए जाते हैं। इसमें 8-8 फीट के 865 लकड़ी के मोटे तनों यानी 13000 क्यूबिक फीट लकड़ी का इस्तेमाल होता है। यह लकड़ी नयागढ़, खुर्दा, बौध इलाके के वनों से 1000 पेड़ों को काटकर जुटाई जाती है।

खबरें और भी हैं…



Source link

Share:

Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
Share on linkedin
Share on whatsapp

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *