Most Popular

Social Media

Get The Latest Updates

Subscribe To Our Weekly Newsletter

No spam, notifications only about new products, updates.

After the political upheaval in Punjab, the meeting of Leader of Opposition Bhupendra Hooda with party MLAs is very important, Congress MLA will gather at the former CM’s kothi in Chandigarh | पंजाब में सियासी उठापठक के बाद पार्टी विधायकों से नेता प्रतिपक्ष भूपेंद्र हुड्‌डा की बैठक काफी अहम, चंड़ीगढ़ में जुटेंगे MLA


  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Rohtak
  • Rewari
  • After The Political Upheaval In Punjab, The Meeting Of Leader Of Opposition Bhupendra Hooda With Party MLAs Is Very Important, Congress MLA Will Gather At The Former CM’s Kothi In Chandigarh

रेवाड़ी38 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

पंजाब में जातिगत राजनीतिक के तहत नए CM चरणजीत सिंह चन्नी की ताजपोशी के बाद हरियाणा कांग्रेस में भी नई सियासत की सुगबुगाहट शुरू हो गई है। पड़ोसी राज्य में इस सियासी उठापठक के बाद हरियाणा के पूर्व CM भूपेंद्र हुड्‌डा ने चंडीगढ़ में अपनी सरकारी कोठी पर बुधवार को कांग्रेस विधायक दल की बैठक बुलाई है। पंजाब के ताजा घटनाक्रम मद्देनजर सेक्टर-7 की कोठी पर होने वाली ये मीटिंग काफी अहम है।

पंजाब की राजनीति में कांग्रेस हाईकमान ने जातिगत कार्ड खेलते हुए चरणजीत सिंह चन्नी को नया मुख्यमंत्री बनाया है। हालांकि इस पूरे मामले से पहले जिन हालात में कैप्टन अमरिंदर सिंह ने इस्तीफा दिया उसे देखते हुए हरियाणा कांग्रेस में अंदरख़ाने चर्चाएं तेज हैं। हरियाणा में वर्तमान में कांग्रेस के 31 MLA हैं, इनमें से 29 MLA को हुड्‌डा समर्थक कहा जाता है। लेकिन बदले हालात के बीच पूर्व CM भूपेंद्र हुड्‌डा इस मीटिंग के बहाने विधायकों की नब्ज टटोलने का काम करेंगे। हालांकि मीटिंग के लिए कोई स्पष्ट एजेंडा अभी नहीं दिया गया है फिर भी कई अहम मुद्दों पर चर्चा होने वाली है।

तीन दिन चंडीगढ़ में ही डेरा जमाएंगे हुड्‌डा
पूर्व CM भूपेंद्र सिंह हुड्‌डा बुधवार दोपहर तक चंडीगढ़ पहुंचेंगे और उसके बाद अगले 3 दिन यहीं प्रवास होगा। 23 सितंबर को हुड्‌डा प्रेस कॉन्फ्रेंस भी करेंगे। वो बैठक के जरिए कई संदेश देने की कोशिश करेंगे। इस मीटिंग में पहुंचने वाले विधायकों की संख्या पर भी सबकी नजर है। ऐसे में पंजाब के उटलफेर के बाद हुड्‌डा की बैठक के कई राजनीतिक मायने निकाले जा रहे हैं।

मीटिंग का एजेंडा तक तय नहीं
विधायकों को भेजे गए संदेश में मीटिंग को लेकर अभी तक कोई एजेंडा क्लीयर नहीं हैं। अनौपचारिक रूप से कांग्रेस विधायक दल की बैठक में तीन कृषि कानूनों के विरोध में चल रहे किसान संगठनों के आंदोलन समेत जनहित के अन्य मसलों पर मंथन होना है। हालांकि चर्चा है कि बैठक में पंजाब का घटनाक्रम ही मुख्य एजेंडा रहेगा। वहीं प्रदेश में भाजपा-जजपा सरकार के खिलाफ आंदोलन रणनीति के अलावा अन्य सियासी मसलों पर भी विमर्श हो सकता है।

मौके की नजाकत समझ रहे हुड्‌डा
भपेंद्र सिंह हुड्‌डा हरियाणा की राजनीति के पुराने खिलाड़ी हैं। मौके की नजाकत को भी हुड्‌डा भली भांति पहचान रहे हैं। पंजाब में जिस तरह अपनी मनमानी कर रहे कैप्टन अमरिंदर सिंह को किनारे कर दिया गया उससे उनकी चिंता बढ़ना स्वभाविक है। क्योंकि हुड्‌डा भी हरियाणा में कैप्टन की तरह ही हाईकमान को दरकिनार करते रहे हैं। ऐसे में पंजाब के घटनाक्रम के बीच हुड्‌डा की विधायक दल की कॉल पर राजनीतिक गलियारों में तरह-तरह के कयास लग रहे हैं।

गुटबाजी का खामियाजा भुगत रही कांग्रेस
हरियाणा में पिछले 7 साल से कांग्रेस का संगठन खड़ा नहीं हो पाया। इसके पीछे प्रदेश कांग्रेस में आपसी गुटबाजी हावी होना रहा है। पूर्व प्रदेशाध्यक्ष अशोक तंवर का पत्ता कटने के बाद भूपेंद्र सिंह हुड्‌डा गुट ने कमान संभालने की तैयारी कर ली थी। लेकिन हाईकमान ने उस समय भी कुमारी सैलजा को प्रदेशाध्यक्ष बना दिया।

हुड्डा खेमा चाहता है अपना प्रदेशाध्यक्ष
सैलजा के प्रदेश अध्यक्ष बनने के बाद हुड्‌डा खेमे के साथ तनाव लगातार बढ़ रहा है। हुड्‌डा खुद की पसंद के किसी नेता को हरियाणा कांग्रेस का प्रदेशाध्यक्ष बनवा चाहते हैं। इसके लिए हुड्‌डा खेमे ने कई बार प्रयास भी किए। जुलाई में ही हरियाणा कांग्रेस के 19 विधायकों ने दिल्ली में हाईकमान से प्रदेशाध्यक्ष बदलने की मांग की थी। हालांकि बात नहीं बनी।

खबरें और भी हैं…



Source link

Share:

Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
Share on linkedin
Share on whatsapp

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *