कोरोना पॉजिटिव होने का कितना है चांस? आपके ब्लड ग्रुप में छुपा है ये राज

वैज्ञानिकों ने एक नया शोध (New Study) पेश किया है. इसमें दावा किया गया है कि ब्लड ग्रुप के जरिए पहले ही पता चल सकता है कि किसे कोरोना वायरस संक्रमण का सबसे ज्यादा खतरा है.

नई दिल्ली: देश में कोरोना वायरस (Coronavirus) के मामलों में लगातार बढ़ोतरी हो रही है. लॉकडाउन (Lockdown) में छूट मिलने के बाद अब लोगों को लगने लगा है कि कोरोना वायरस कभी न कभी हर किसी को हो सकता है. लेकिन इस बीच वैज्ञानिकों ने एक नया शोध (New Study) पेश किया है. इसमें दावा किया गया है कि ब्लड ग्रुप के जरिए पहले ही पता चल सकता है कि किसे कोरोना वायरस संक्रमण का सबसे ज्यादा खतरा है.

  • A ब्लड ग्रुप वालों को है सबसे ज्यादा खतरा


    पिछले हफ्ते न्यू इंग्लैंड जरनल ऑफ मेडिसीन में छपे नए शोध में दावा किया गया है कि A ब्लड ग्रुप वालों को कोरोना वायरस से सबसे ज्यादा संक्रमण का खतरा है. विभिन्न आंकड़ों की जांच से पता चला है कि A ब्लड ग्रुप वाले किसी व्यक्ति पर कोरोना वायरस के हमले की संभावना 45 प्रतिशत ज्यादा है. इसकी तुलना में सबसे कम संभावाना O ब्लड ग्रुप वाले लोगों को है. वैज्ञानिकों के मुताबिक O ब्लड ग्रुप वाले लोगों के संक्रमित होने की संभावना 35 प्रतिशत से भी कम है. इस ब्लड ग्रुप के लोगों में कोरोना वायरस घातक हमला नहीं कर पाता है.

न्यूयॉर्क स्थित लिनक्स अस्पताल में इमरजेंसी मेडिसीन विभाग के प्रमुख डॉ. रॉबर्ट ग्लैटर का कहना है कि खून को नियंत्रित करने वाली जीन इसमें अहम भूमिका निभाते हैं. कोरोना वायरस संक्रमण में ताकतवर और कमजोर जीन की वजह से ही वायरस के घातक हमले का अनुमान लगाया जा सकता है. वैज्ञानिकों ने इटली और स्पेन में कोरोना संक्रमित हुए लगभग 1,600 मरीज और 2,200 सेहतमंद लोगों की जांच के आधार पर नई रिपोर्ट निकाली है.

Share:

Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
Share on linkedin
Share on whatsapp

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *