केंद्र और CBSE ने सुप्रीम कोर्ट से कहा- बची हुई परीक्षाओं पर कोई भी फैसला गुरुवार तक

केंद्र और CBSE ने सुप्रीम कोर्ट से कहा- बची हुई परीक्षाओं पर कोई भी फैसला गुरुवार तकसीबीएसई 12वीं बोर्ड के बचे हुए पेपर होंगे या नहीं, इस पर आज मानव संसाधन मंत्रालय और CBSE बोर्ड ने सुप्रीम कोर्ट में अपना पक्ष रखा है. सीबीएसई और मंत्रालय ने कोर्ट को बताया है कि पेपर रद्द करने पर चर्चा एडवांस स्टेज में है और गुरुवार तक इस पर अंतिम फैसला कर लिया जाएगा. इस दलील के बाद सुप्रीम कोर्ट ने मामले की सुनवाई गुरुवार तक टाल दी है. अब इस मामले की सुनवाई गुरुवार 25 जून को दोपहर 2 बजे होगी.

सॉलिसिटर जनरल ने सुप्रीम कोर्ट को सूचित किया कि केंद्र सरकार संभवत गुरुवार तक 12वीं कक्षा की बची हुई परीक्षाएं आयोजित करने पर अपना निर्णय सुनाएगी. केंद्र और CBSE ने आज कहा, “निर्णय लेने की प्रक्रिया एडवांस स्टेज में है. इसे गुरुवार तक इसपर अंतिम फैसला लिया जाएगा.”

क्या है पूरा मामला?
दरअसल, कोरोनावायरस के बढ़ते खतरे को देखते हुए कुछ छात्रों के अभिभावकों ने सुप्रीम कोर्ट से मांग की है कि सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकंडरी एजुकेशन (CBSE) के 12वीं क्लास के बचे हुए पेपर न कराए जाएं. अभिभावकों का मानना है कि एग्जाम देने से बच्चों के लिए खतरा पैदा हो सकता है. पैरेंट्स की तरफ से दायर याचिका में मांग की गई है कि 12वीं के बचे हुए बोर्ड एग्जाम कराने का जो फैसला सीबीएसई ने लिया है उसे रद्द किया जाए.

अभिभावकों की याचिका के बाद सुप्रीम कोर्ट ने सीबीएसई बोर्ड (CBSE Board) से जवाब मांगा था. कोर्ट ने इस मामले पर बोर्ड से कहा था कि वे हालात को देखते हुए अपना जवाब दे. सीबीएसई ने भी कहा था कि वह स्थिति को देखते हुए अपने दिशा-निर्देश बताएगा. आज सुप्रीम कोर्ट में इस मामले की सुनवाई हुई है.

Credit:

Share:

Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
Share on linkedin
Share on whatsapp

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *