Most Popular

Social Media

Get The Latest Updates

Subscribe To Our Weekly Newsletter

No spam, notifications only about new products, updates.

CBSE Board has issued special assessment scheme for 10th-12th examinations, academic session 2021-22 will be divided into two parts | CBSE ने इस साल के एकेडमिक सेशन को दो हिस्सों में बांटा, नवंबर-दिसंबर में पहली तो मार्च-अप्रैल में होंगे दूसरे टर्म के एग्जाम


  • Hindi News
  • Career
  • CBSE Board Has Issued Special Assessment Scheme For 10th 12th Examinations, Academic Session 2021 22 Will Be Divided Into Two Parts

नई दिल्ली22 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन (CBSE) ने साल 2021-22 के एकेडमिक सेशन के लिए 10वीं और 12वीं के सिलेबस में महत्वपूर्ण बदलाव किए हैं। इसके तहत साल 2021 के बैच के लिए बोर्ड परीक्षाएं दो टर्म में आयोजित की जाएंगी।

CBSE ने सोमवार को जारी सर्कुलर में बताया कि 2021-22 के एकेडमिक सेशन को दो टर्म में बांटा गया है। प्रत्येक टर्म में 50% सिलेबस को कवर किया जाएगा। पहले टर्म की परीक्षा नवंबर-दिसंबर और दूसरे टर्म की परीक्षा मार्च-अप्रैल में होगी। ये टर्म एग्जाम 90 मिनट की अवधि के होंगे। इसकी अधिसूचना इसी महीने जारी कर दी जाएगी।

दोनों टर्म के आधार पर तैयार होगी मार्क्सशीट
बोर्ड हरेक टर्म के आखिर में बंटे हुए सिलेबस के आधार पर परीक्षाएं लेगा। बोर्ड प्रश्न पत्र तैयार करके इन्हें स्कूलों को भेज देगा। आंसरशीट के मूल्यांकन की प्रक्रिया भी बोर्ड ही तय करेगा। ये परीक्षाएं बाहर से भेजे गए सेंटर सुप्रिटेंडेंट और ऑब्ज़र्वर्स की निगरानी में आयोजित की जाएंगी। बच्चे पहले और दूसरे टर्म में जो नंबर हासिल करेंगे, उनके आधार पर अंतिम मार्क्सशीट तैयार किया जाएगा।

कोरोना के चलते लिया फैसला
CBSE ने कोरोना महामारी को देखत हुए यह फैसला किया है। 2022 की 10वीं- 12वीं बोर्ड परीक्षाओं की योजना के बारे में सीबीएसई ने कहा कि इंटरनल असेसमेंट और प्रोजक्ट वर्क को और ज्यादा विश्वसनीय और वैलिड बनाने के प्रयास जारी रहेंगे। इससे पहले बोर्ड ने इस साल होने वारी 10वीं-12वीं की परीक्षा भी कोरोना के चलते रद्द कर दी थी।

सीबीएसई ने स्कूलों को स्टूडेंट की प्रोफाइल तैयार करने को भी कहा है। स्कूल साल भर में किए गए सभी असेसमेंट के लिए स्टूडेंट्स की प्रोफाइल तैयार करेंगे और उसका डिजिटल फॉर्मेट बनाएंगे।बोर्ड ने कहा है कि जब तक स्कूलों में व्यक्तिगत रूप से पढ़ाने की की अनुमति नहीं देते हैं, तब तक स्कूल डिस्टेंस मोड में पढ़ाना जारी रखेंगे।

खबरें और भी हैं…



Source link

Share:

Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
Share on linkedin
Share on whatsapp

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *