Most Popular

Social Media

Get The Latest Updates

Subscribe To Our Weekly Newsletter

No spam, notifications only about new products, updates.

Chief Justice NV Ramana । 50 per cent reservation । women in judiciary । Supreme Court । 1.7 million advocates | चीफ जस्टिस रमना बोले- दुनिया की महिलाओं एक हो जाओ, तुम्हारे पास खोने के लिए जंजीरों के अलावा कुछ नहीं



  • Hindi News
  • National
  • Chief Justice NV Ramana । 50 Per Cent Reservation । Women In Judiciary । Supreme Court । 1.7 Million Advocates

नई दिल्ली18 मिनट पहले

सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस (CJI) ने एक बार फिर ज्यूडिशरी में महिलाओं की भागदारी का मुद्दा उठाया है। रविवार को सुप्रीम कोर्ट की महिला वकीलों ने 9 नव नियुक्त जजों के लिए सम्मान समारोह का आयोजन किया। इसमें CJI रमना भी पहुंचे। उन्होंने कहा कि ज्यूडिशरी में महिलाओं को 50% आरक्षण मिलना चाहिए। इसके अलावा देशभर के लॉ कॉलेजों में भी महिलाओं को इतना ही आरक्षण मिलना चाहिए।

NDTV की रिपोर्ट के मुताबिक जस्टिस रमना ने कहा कि महिलाओं का हक है। उन्हें ज्यूडिशरी और लॉ कॉलेजों में 50% आरक्षण दिजा जाए। इस वक्त भारतीय ज्यूडिशरी के निचले हिस्से में 30% महिला जज तैनात हैं। हाइकोर्ट में महिलाओं की तादाद 11.5% है। सुप्रीम कोर्ट में यह सिर्फ 11 से 12% है।

बार काउंसिल की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में महिला नहीं
देश में 1.7 मिलियन (17 लाख) वकील हैं। इसमें महिलाओं की संख्या सिर्फ 15% है। राज्यों के बार काउंसिल के चुनाव में सिर्फ 2% महिलाएं चुनकर आती हैं। मैंने यह मसला भी उठाया था कि बार काउंसिल की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में एक भी महिला शामिल क्यों नहीं है।

CJI ने सुधार पर जोर दिया मुख्य ज्यूडिशरी ने सुधार पर जोर देते हुए कहा कि मैं आप सभी को याद दिलाना चाहता हूं कि कार्ल मार्क्स ने क्या कहा था। उन्होंने कहा था- ‘दुनिया के मजदूर एक हो जाओ, तुम्हारे पास खोने के लिए अपनी जंजीरों के अलावा कुछ नहीं है।’ मैं उनकी इस लाइन में कुछ बदलाव करूंगा। ‘दुनिया की महिलाओं एक हो जाओ, तुम्हारे पास खोने के लिए अपनी जंजीरों के अलावा कुछ नहीं है।’

महिला वकीलों के सामने पड़ी चुनौती
चीफ जस्टिस ने कहा कि वो जानते हैं। महिला वकीलों के सामने बड़ी चुनौतियां हैं। काम करने का महौल उनके मुताबिक नहीं है। काम काजी महिलाओं के लिए बुनियादी सुविधाएं जैसे वॉशरूम और शिशु गृह तक की व्यवस्था नहीं है।

बेटी दिवस की शुभकामनाएं दी
CJI ने कहा कि आज बेटी दिवस है। सभी को इसकी शुभकामनाएं। मैं जानता हूं कि यह अमेरिका की संस्कृति है, लेकिन अच्छी आदतें दुनिया में कहीं से भी ली जा सकती हैं। मैं ज्यूडिशरी में बुनियादी सुविधाएं ठीक करने की कोशिश कर रहा हूं। एक्जीक्यूटिव्स पर बदलाव के लिए जोर दे रहा हूं।

सुप्रीम कोर्ट में ही महिलाओं की भागीदारी कम
इस महीने में यह दूसरी बार था, जब CJI ने महिलाओं के नेतृत्व का मुद्दा उठाया है। इससे पहले बार काउंसिल के एक कार्यक्रम में उन्होंने कहा था कि हमें आजाद हुए 75 साल हो गए हैं। इस समय करीब 50% महिलाओं की हर क्षेत्र में भागीदारी होनी चाहिए थी, लेकिन सुप्रीम कोर्ट में भी हम सिर्फ इसे 11% ही पूरा कर पाए हैं। 1 सितंबर को 3 महिलाओं ने सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीशों के रूप में शपथ ली। यह कई मायनों में ऐतिहासिक पल था। अब शीर्ष अदालत में महिला न्यायाधीशों की संख्या 4 हो गई है।

2027 में सुप्रीम कोर्ट को मिलेगी पहली महिला जज
सुप्रीम कोर्ट की पहली महिला जज के तौर पर न्यायमूर्ति फातिमा बीबी ने शपथ ली थी। अब तक कुल 8 महिलाएं ही यहां तक पहुंची हैं। वर्तमान में सिर्फ 4 महिलाएं सुप्रीम कोर्ट में जज हैं। इनमें जस्टिस इंदिरा बनर्जी, जस्टिस बीवी नागरत्ना, जस्टिस बेला एम त्रिवेदी और जस्टिस हिमा कोहली शामि हैं। 2027 में जस्टिस बीवी नागरत्ना सुप्रीम कोर्ट की पहली महिला जज बनेंगी।

खबरें और भी हैं…



Source link

Share:

Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
Share on linkedin
Share on whatsapp

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *