Most Popular

Social Media

Get The Latest Updates

Subscribe To Our Weekly Newsletter

No spam, notifications only about new products, updates.

Driving Test Only In Three Minutes – तीन मिनट में हो रहा परमानेंट डीएल के लिए वाहन टेस्ट, ट्रांसपोर्ट नगर स्थित आरटीओ में आरटीआई के जवाब से हुआ खुलासा


पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

ट्रांसपोर्ट नगर स्थित संभागीय परिवहन कार्यालय (आरटीओ) में परमानेंट ड्राइविंग लाइसेंस (डीएल) जारी करने के लिए औसत तीन मिनट में आवेदकों से वाहन चलाने का टेस्ट हो रहा है। इसका खुलासा आरटीओ में सामाजिक कार्यकर्ता की आरटीआई के जरिए पूछे गए सवालों के जवाब से हुआ है।
मालूम हो कि 16 जनवरी को सामाजिक कार्यकर्ता कर्मवीर आजाद ने आरटीआई के जरिये तीन सवाल पूछे थे। 16 दिसंबर 2020 से 16 जनवरी 2021 के बीच कितने डीएल बनाए गए और कितने आवेदकों का वाहन टेस्ट लिया गया। दूसरा सवाल था कि एक आवेदक के वाहन टेस्ट में कितना समय लगता है। जबकि तीसरे सवाल के जरिए पूछा था कि क्या मोटर वाहन अधिनियम में बिना टेस्ट के डीएल स्वीकृत करने का प्रावधान है। आरटीओ ने नौ फरवरी को जवाब दिया है।
टेस्ट की समय सीमा निर्धारित नहीं
आरटीओ की ओर से आरटीआई के जवाब में कहा गया कि मोटर वाहन अधिनियम में ड्राइविंग लाइसेंस के टेस्ट के लिए समय सीमा तय नहीं की गई है। अधिनियम में वाहन टेस्ट की जो विधि निर्धारित की गई है, उसके आधार पर आवेदक का टेस्ट लिया जा रहा है।
पीआईएल दायर करेंगे
सामाजिक कार्यकर्ता कर्मवीर आजाद ने बताया कि अब लापरवाहोें पर कार्रवाई कराने के लिए न्यायालय में पीआईएल दाखिल करेंगे। इसमें उल्लेख करेंगे कि डीएल जारी करने से पहले आवेदक का सही तरीके से वाहन चलाने का टेस्ट नहीं लिया जाता है।
सात घंटे होता है कार्य
आरटीओ सुबह 10 बजे खुलता है, पर आवेदकों के काम सुबह 10:30 बजे से दोपहर 12:30 बजे होते हैं। इसके बाद कर्मचारी भोजन करने चले जाते हैं जो दोबारा आकर शाम पांच बजे तक बायोमीट्रिक का कार्य करते हैं। यानी आवेदकों के कार्य के लिए सात घंटे होते हैं, जिसमें भोजनावकाश भी शामिल है।
सात से दस मिनट में होना चाहिए वाहन टेस्ट
अमर उजाला की पड़ताल में ऑटो ओनर्स एवं वेलफेयर एसोसिएशन के कार्यवाहक अध्यक्ष एवं एक्सपर्ट नौशाद अली का कहना है कि आरटीओ में वाहन का सही तरीके से टेस्ट लेने के लिए आवेदकों को कम से सात से दस मिनट का समय लगना चाहिए। संभागीय निरीक्षक अपने सामने टेस्ट स्थल पर दोपहिया व चौपहिया से पूरा एक राउंड लगवाते हैं। आवेदक को टेस्ट देने लिए तैयार होने में ही दो से तीन मिनट गुजर जाते हैं। दो से तीन मिनट में टेस्ट हो पाना संभव ही नहीं।
16 दिसंबर 2020 से 16 जनवरी 2021 तक बने डीएल
तारीख तादाद
16 दिसंबर 56
17 239
18 172
21 164
22 181
23 103
24 137
26 167
28 189
29 173
30 162
31 174
1 जनवरी 148
2 144
4 168
5 181
6 170
7 174
8 192
11 174
12 210
13 179
14 196
15 214
16 232

ट्रांसपोर्ट नगर स्थित संभागीय परिवहन कार्यालय (आरटीओ) में परमानेंट ड्राइविंग लाइसेंस (डीएल) जारी करने के लिए औसत तीन मिनट में आवेदकों से वाहन चलाने का टेस्ट हो रहा है। इसका खुलासा आरटीओ में सामाजिक कार्यकर्ता की आरटीआई के जरिए पूछे गए सवालों के जवाब से हुआ है।

मालूम हो कि 16 जनवरी को सामाजिक कार्यकर्ता कर्मवीर आजाद ने आरटीआई के जरिये तीन सवाल पूछे थे। 16 दिसंबर 2020 से 16 जनवरी 2021 के बीच कितने डीएल बनाए गए और कितने आवेदकों का वाहन टेस्ट लिया गया। दूसरा सवाल था कि एक आवेदक के वाहन टेस्ट में कितना समय लगता है। जबकि तीसरे सवाल के जरिए पूछा था कि क्या मोटर वाहन अधिनियम में बिना टेस्ट के डीएल स्वीकृत करने का प्रावधान है। आरटीओ ने नौ फरवरी को जवाब दिया है।

टेस्ट की समय सीमा निर्धारित नहीं

आरटीओ की ओर से आरटीआई के जवाब में कहा गया कि मोटर वाहन अधिनियम में ड्राइविंग लाइसेंस के टेस्ट के लिए समय सीमा तय नहीं की गई है। अधिनियम में वाहन टेस्ट की जो विधि निर्धारित की गई है, उसके आधार पर आवेदक का टेस्ट लिया जा रहा है।

पीआईएल दायर करेंगे

सामाजिक कार्यकर्ता कर्मवीर आजाद ने बताया कि अब लापरवाहोें पर कार्रवाई कराने के लिए न्यायालय में पीआईएल दाखिल करेंगे। इसमें उल्लेख करेंगे कि डीएल जारी करने से पहले आवेदक का सही तरीके से वाहन चलाने का टेस्ट नहीं लिया जाता है।

सात घंटे होता है कार्य

आरटीओ सुबह 10 बजे खुलता है, पर आवेदकों के काम सुबह 10:30 बजे से दोपहर 12:30 बजे होते हैं। इसके बाद कर्मचारी भोजन करने चले जाते हैं जो दोबारा आकर शाम पांच बजे तक बायोमीट्रिक का कार्य करते हैं। यानी आवेदकों के कार्य के लिए सात घंटे होते हैं, जिसमें भोजनावकाश भी शामिल है।

सात से दस मिनट में होना चाहिए वाहन टेस्ट

अमर उजाला की पड़ताल में ऑटो ओनर्स एवं वेलफेयर एसोसिएशन के कार्यवाहक अध्यक्ष एवं एक्सपर्ट नौशाद अली का कहना है कि आरटीओ में वाहन का सही तरीके से टेस्ट लेने के लिए आवेदकों को कम से सात से दस मिनट का समय लगना चाहिए। संभागीय निरीक्षक अपने सामने टेस्ट स्थल पर दोपहिया व चौपहिया से पूरा एक राउंड लगवाते हैं। आवेदक को टेस्ट देने लिए तैयार होने में ही दो से तीन मिनट गुजर जाते हैं। दो से तीन मिनट में टेस्ट हो पाना संभव ही नहीं।

16 दिसंबर 2020 से 16 जनवरी 2021 तक बने डीएल

तारीख तादाद

16 दिसंबर 56

17 239

18 172

21 164

22 181

23 103

24 137

26 167

28 189

29 173

30 162

31 174

1 जनवरी 148

2 144

4 168

5 181

6 170

7 174

8 192

11 174

12 210

13 179

14 196

15 214

16 232



Source link

Share:

Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
Share on linkedin
Share on whatsapp

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *