Ganje Ki Kheti In Maharashtra; Hingoli Farmer Arrested For Growing Hemp, Sezied Rs 21 Lakh Plants | महाराष्ट्र के हिंगोली में गन्ने की फसल के बीच गांजे के 345 पौधे उगाए, कीमत 21.75 लाख रुपए


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मुंबई14 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

तीन महीने में गांजे के पौधों की बरामदगी का यह तीसरा मामला है।

हिंगोली जिले के हापसापूर गांव में गन्ने के एक खेत में उगाई गई गांजे की फसल को स्थानीय पुलिस ने जब्त किया है। पुलिस ने इसे उगाने वाले किसान को भी गिरफ्तार कर लिया है। जब्त किए गए गांजे के 345 पौधों की कीमत तकरीबन 21 लाख 73 हजार रुपए बताई गई है। पिछले तीन महीने में गांजे के पौधों की बरामदगी का यह तीसरा मामला है। बता दें कि बिना अनुमति के गांजा बोने पर 20 साल की सजा का प्रावधान है।

कपास की खेती छोड़ किसान उगा रहे हैं गांजा

दो दशक पहले तक कपास की खेती के लिए फेमस हिंगोली को मराठवाड़ा का मैनचेस्टर भी कहा जाता था। यहां कपास आधारित तकरीबन 20 से ज्यादा उद्योग थे। लेकिन कपास की खेती और उसे बाजार तक लाने का खर्च किसानों के लिए सिरदर्द बन गया, जिसके बाद ज्यादातर किसान सोयाबीन की खेती की ओर आकर्षित हो गए।

हालांकि, कभी सूखा और कभी बाढ़ ने इसे भी घाटे के सौदा बना दिया। इसी बीच कम लागत में ज्यादा मुनाफे के लालच में हिंगोली के बसमत और औंढा तहसील के किसान गांजे की खेती की ओर आकर्षित हुए और पुलिस की नजर से छिपकर गन्ने के खेतों के बीच गांजे के पौधे उगाने लगे।

मुखबिरों की सूचना के आधार पर हुई छापेमारी

कुछ दिनों पहले मुखबिरों के माध्यम से जब पुलिस को इसकी भनक लगी तो पुलिस अधीक्षक राकेश कलासागर, अपर पुलिस अधीक्षक यशवंत काले के नेतृत्व में बसमत तहसील के नहाद गांव और औंढा के उमरा गांव में छापा मारकर अन्य फसलों के साथ उगाए गए गांजे के पौधों को जब्त किया। इसी कड़ी में मंगलवार को हापसापूर गांव में नामदेव सवंडकर नाम के किसान के गन्ने के खेत से 2.76 किलो गांजे की फसल बरामद हुई।

लॉकडाउन के बीच किसान ने मुनाफे के लिए की गांजे की खेती

बरामद हुए गांजे के 345 पौधों को लॉकडाउन के बीच जून महीने में बोया गया था। पुलिस की नजर से इन्हें बचाने के लिए इसके आसपास गन्ने के पौधे लगाए गए। पुलिस ने कार्रवाई करते हुए किसान नामदेव सवंडकर को अरेस्ट कर लिया है। सूत्रों की माने तो आसपास के कई गांवों में इसी तरह गांजे की खेती की जा रही है। आने वाले समय में पुलिस और भी छापेमारी कर सकती है।

20 साल तक की जेल का प्रावधान

बिना अनुमति के गांजा उगाने पर राज्य में प्रतिबंध लगा हुआ है। एनडीपीएस एक्ट के तहत दोष सिद्ध हो जाने पर 20 साल की सजा का प्रावधान है। सहायक पुलिस निरीक्षक गजानन मोरे ने बताया, ‘गांजा रखना, फसल उगाना या तस्करी करना एक अपराध है। 5 किलो तक का गांजा बरामद होने पर 6 महीने की जेल, 5 से 20 किलो तक का गांजा मिलने पर 10 साल की कैद और इससे अधिक गांजा मिलने पर 20 साल तक के कारावास का प्रावधान है।’



Source link

Share:

Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
Share on linkedin
Share on whatsapp

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *