Help Desk Will Be Made For The Convenience Of Traders, Filing Returns In Gst Will Be Easier Now – व्यापारियों की सहूलियत के लिए बनेगा हेल्प डेस्क, जीएसटी में रिटर्न दाखिल करना होगा अब और आसान


न्यूज डेस्क, अमर उजाला, लखनऊ
Updated Tue, 12 Jan 2021 10:50 PM IST

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

नए व्यापारियों को पंजीकरण कराने और रिटर्न दाखिल करने में होने वाली परेशानियों को देखते हुए वाणिज्य कर विभाग ने हेल्प डेस्क बनाने का फैसला किया गया है। इस व्यवस्था के लागू होने से माल एवं सेवा कर  (जीएसटी) में पंजीकृत सभी व्यापारियों के लिए रिटर्न दाखिल करना अब और अधिक आसान हो जाएगा। वाणिज्य कर आयुक्त अमृता सोनी ने इस संबंध में आदेश जारी कर दिया है।

वाणिज्य कर आयुक्त की ओर से जारी आदेश में सभी जोन के एडिशनल और जाइंट कमिश्नरों को इस वित्तीय वर्ष में 25 लाख नये व्यापारियों का पंजीकरण कराने के लक्ष्य को पूरा करने के अभियान चलाने का भी निर्देश दिया गया है। उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण की वजह से लॉकडाउन की अवधि में विभाग द्वारा आयोजित किए जाने वाले सभी तरह के शिविर, सर्वेक्षण व गोष्ठियों का आयोजन स्थगित कर दिया था। जिसे अब दुबारा शुरू करने की जरूरत है।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने 25 लाख नये व्यापारियों को जीएसटी में पंजीकृत करने के लक्ष्य दिया है, जिसे पूरा करने के लिए सर्वेक्षण, गोष्ठियों व कैंप के माध्यम से व्यापारिओं को पंजीकरण कराने के लिए जागरूक किया जाए।  इस काम में व्यापारी कल्याण बोर्ड की मदद लेने पर बल देते हुए वाणिज्य कर आयुक्त ने पंजीकरण जागरूकता अभियान चलाने के निर्देश दिए हैं। अभियान में जीएसटी में पंजीकरण के इच्छुक व्यापारियों का शत-प्रतिशत पंजीकरण किया जाएगा।

नए पंजीयन व रिटर्न दाखिला की सुविधा के लिए प्रत्येक जिले व मंडल कार्यालय में हेल्प डेस्क बनाए जाएंगे। इस पर पंजीकरण और रिटर्न दाखिल करने के जानकार अधिकारियों को तैनात किया जाएगा। अभियान अवधि में हेल्प डेस्क का प्रचार भी किया जाएगा, जिससे व्यापारी इस सुविधा का लाभ ले सकें। हेल्प डेस्क पर आने वाले सभी व्यापारियों का विवरण रजिस्टर में दर्ज किया जाएगा।
 

नए व्यापारियों को पंजीकरण कराने और रिटर्न दाखिल करने में होने वाली परेशानियों को देखते हुए वाणिज्य कर विभाग ने हेल्प डेस्क बनाने का फैसला किया गया है। इस व्यवस्था के लागू होने से माल एवं सेवा कर  (जीएसटी) में पंजीकृत सभी व्यापारियों के लिए रिटर्न दाखिल करना अब और अधिक आसान हो जाएगा। वाणिज्य कर आयुक्त अमृता सोनी ने इस संबंध में आदेश जारी कर दिया है।

वाणिज्य कर आयुक्त की ओर से जारी आदेश में सभी जोन के एडिशनल और जाइंट कमिश्नरों को इस वित्तीय वर्ष में 25 लाख नये व्यापारियों का पंजीकरण कराने के लक्ष्य को पूरा करने के अभियान चलाने का भी निर्देश दिया गया है। उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण की वजह से लॉकडाउन की अवधि में विभाग द्वारा आयोजित किए जाने वाले सभी तरह के शिविर, सर्वेक्षण व गोष्ठियों का आयोजन स्थगित कर दिया था। जिसे अब दुबारा शुरू करने की जरूरत है।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने 25 लाख नये व्यापारियों को जीएसटी में पंजीकृत करने के लक्ष्य दिया है, जिसे पूरा करने के लिए सर्वेक्षण, गोष्ठियों व कैंप के माध्यम से व्यापारिओं को पंजीकरण कराने के लिए जागरूक किया जाए।  इस काम में व्यापारी कल्याण बोर्ड की मदद लेने पर बल देते हुए वाणिज्य कर आयुक्त ने पंजीकरण जागरूकता अभियान चलाने के निर्देश दिए हैं। अभियान में जीएसटी में पंजीकरण के इच्छुक व्यापारियों का शत-प्रतिशत पंजीकरण किया जाएगा।

नए पंजीयन व रिटर्न दाखिला की सुविधा के लिए प्रत्येक जिले व मंडल कार्यालय में हेल्प डेस्क बनाए जाएंगे। इस पर पंजीकरण और रिटर्न दाखिल करने के जानकार अधिकारियों को तैनात किया जाएगा। अभियान अवधि में हेल्प डेस्क का प्रचार भी किया जाएगा, जिससे व्यापारी इस सुविधा का लाभ ले सकें। हेल्प डेस्क पर आने वाले सभी व्यापारियों का विवरण रजिस्टर में दर्ज किया जाएगा।

 



Source link

Share:

Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
Share on linkedin
Share on whatsapp

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *