चाणक्य नीति कहती है कि किसी दुष्ट इंसान से कोई छिपाने वाली बात नहीं करनी चाहिए, क्योंकि उसे अगर वो बात अहम लगती है तो वह फैला देता है.