Lockdown in Lucknow Day 9: पांच माह के शिशु को कोरोना का मरीज समझ डॉक्टरों ने नहीं छुआ, तड़प-तड़पकर हुई मौत

Child

लखनऊ, जेएनएन। कोरोना वायरस के खौफ के चलते निजी अस्पताल के डॉक्टर ने पांच माह के मासूम का इलाज नहीं किया। डॉक्टर ने बच्चे को छुआ तक नहीं। बच्चे की श्वास नली में मंगलवार रात दूध फंस गया था। परिवारजन काफी देर तक बच्चे को लेकर एक अस्पताल से दूसरे अस्पताल तक भटकते रहे। जब इलाज मिला, तब तक काफी देर हो चुकी थी और बच्चे ने तड़प-तड़पकर दम तोड़ दिया।

जानकीपुरम निवासी निशांत सिंह सेंगर के पांच माह के बेटे की श्वांसनली में मंगलवार रात दूध फंस जाने से तबीयत बिगड़ गई। बच्चा जोर-जोर से रोने लगा। परिवारजन कुछ समझ नहीं पाए और पास के एक निजी अस्पताल में लेकर भागे, लेकिन उसका ताला बंद मिला। फिर वह रिंग रोड स्थित दूसरे निजी अस्पताल में पहुंचे। वहां भी गेट बंद मिला। इसके बाद वे बच्चे को रिस्पांस न मिलने पर उसे निशातगंज स्थित एक अन्य निजी अस्पताल ले गए। परिवारीजन के अनुसार रो रहे बच्चे को सांस में तकलीफ को देख डॉक्टर कोरोना वायरस की आशंका समझ बैठे और बिना देखे दवा लिखकर वापस लौटा दिया। परिवारजन ने जब ठीक से देखने की मिन्नत की तो बदसुलूकी भी की। उसे छुआ तक नहीं। कहने लगे दवा पिलाओ, ठीक हो जाएगा।

मायूस परिवारजन घर की ओर इस उम्मीद में लौट लिए कि शायद दवा पिलाने पर आराम मिल जाए। मगर बच्चा जोर-जोर से रोने लगा। निशांत के साले शुभम ने बताया कि जब उसे दोबारा अस्पताल ले गए तो डॉक्टरों ने नली डालकर श्वांसनली में फंसे दूध को निकाला। मगर तब तक काफी देर हो गई थी। थोड़ी ही देर में बच्चे ने दम तोड़ दिया। आरोप है कि कोरोना की आशंका में डॉक्टर ने मासूम का पहली बार में सही से इलाज नहीं किया, जबकि उसकी श्वासनली में दूध फंस गया था। अगर उसी दौरान ठीक से इलाज किया गया होता तो शायद बच्चे की जान नहीं जाती। उधर, इस संबंध में सीएमओ डॉ नरेंद्र अग्रवाल ने कहा कि अभी उनको कोई शिकायत इस संबंध में नहीं मिली है। मामले की जांच कराकर कार्रवाई की जाएगी।

दवा उपलब्ध कराने की मांग

केजीएमयू में गरीब मरीजों के इलाज पर संकट गहरा रहा है। कारण, बीपीएल, असाध्य रोगों के मरीजों की दवा आपूर्ति बाधित होना है। ऐसे में मेडिकल स्टोर संचालक ने पत्र लिखकर दवा उपलब्ध कराने पर असमर्थता जताई। लिहाजा, कैंसर, किडनी, लिवर के तमाम मरीजों को दवा नहीं मिल पा रही है।

डॉक्टरों के लिए विशेषज्ञों की सलाह

  • कोरोना के नाम पर मरीजों को न करें नजरअंदाज
  • हर खांसने-छींकने वाला कोरोना का मरीज नहीं होता
  • कोरोना का पहला लक्षण तेज बुखार है
  • अगर कोरोना का भी कोई संदिग्ध है तो मानकों को ध्यान में रखकर उसको देखा जाना चाहिए
  • डॉक्टर का फर्ज हर मरीज को महत्व देना है, न कि उससे परहेज करना है
  • अगर कहीं कोई असुविधा है तो सीनियर डॉक्टरों से ले सकते हैं

credit

Share:

Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
Share on linkedin
Share on whatsapp

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

On Key

Related Posts

Chanakya niti, we should remember these nities for success, life management tips by chanakya niti | पुत्र वही है जो पिता का भक्त है, पिता वही है जो पालन करता है, मित्र वही है जिस पर विश्वास है

3 घंटे पहले कॉपी लिंक चाणक्य की नीतियों को अपनाने से हमारी कई समस्याएं खत्म हो सकती हैं आचार्य चाणक्य ने अपने नीति शास्त्र के

Hathras (UP) Gang Rape Case Latest News Updates: Supreme Court Hearing Today CBI Investigation Over Hathras Gang Rape Case | सुप्रीम कोर्ट ने कहा- CBI जांच की निगरानी इलाहाबाद हाईकोर्ट करेगा, केस दिल्ली ट्रांसफर करने पर बाद में विचार करेंगे

नई दिल्ली/हाथरस15 मिनट पहले कॉपी लिंक हाथरस के बुलगढ़ी गांव में दलित युवती से कथित गैंगरेप और हत्या के मामले में दायर अर्जियों पर सुप्रीम

talks

अमेरिकी रक्षा मंत्री व् विदेश मंत्री आएंगे भारत ,होगी विशेष मुद्दों पर बात।

चुनाव से ठीक एक सप्ताह पहले, राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्र्ंप के दो शीर्ष राष्ट्रीय सुरक्षा सहयोगी चीन की बढ़ती वैश्विक ताकत समेत दूसरे मुद्दों पर वार्ता 

covaccine

corona vaccine : बायोटेक्नोलॉजी कम्पनी भारत बायोटेक को COVAXIN के अगले चरण के क्लिनिकल ट्रायल को मिली मंजूरी।

coronavirus  vaccine:  #1भारत बायोटेक ने tweet कर कहा कि COVAXIN™️ के तीसरे चरण के क्लिनिकल ट्रायल शुरू करने के लिए DGCI ने अप्रूवल दे दिया

subscribe to our 24x7 Khabar newsletter