Madhya Pradesh By-Election Result 2020 LIVE Update: Jyotiraditya Scindia | MP (Vidhan Sabha) Chunav Parinam Latest News Today; Jyotiraditya Scindia, Shivraj Singh Chouhan, Kamal Nath | मुरैना में सिंधिया-तोमर बेअसर, 5 सीटों में 3 पर भाजपा पीछे; कमलनाथ ने छोड़ा कांग्रेस दफ्तर


  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Madhya Pradesh By Election Result 2020 LIVE Update: Jyotiraditya Scindia | MP (Vidhan Sabha) Chunav Parinam Latest News Today; Jyotiraditya Scindia, Shivraj Singh Chouhan, Kamal Nath

भोपाल16 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
  • 28 सीटों में 21 पर भाजपा, 6 पर कांग्रेस और 1 सीट पर बसपा आगे चल रही है

प्रदेश के 19 जिलों की 28 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव में वोटों की गिनती जारी है। तस्वीर काफी हद तक साफ हो चुकी है। 21 सीटों पर भाजपा और 6 सीट पर कांग्रेस आगे है, जबकि 1 सीट (मुरैना) पर बसपा आगे है। अब तक आए रुझानों में भाजपा का कमल खिलता दिख रहा है। मुख्यमंत्री शिवराज ने दोपहर 12.45 बजे ट्वीट कर कहा कि जनता ने एक बार फिर विकास और जनकल्याण के लिए भाजपा को मध्यप्रदेश की जिम्मेदारी सौंपने का निर्णय ले लिया है।

उधर, दोपहर 1.30 बजे रुझानों में तस्वीर साफ होने के बाद कमलनाथ ने प्रदेश कांग्रेस कार्यालय छोड़ दिया। वहां मीडियाकर्मियों ने उनसे बातचीत करने की कोशिश की। लेकिन, उन्होंने किसी से कोई बात नहीं की। इससे पहले जब कमलनाथ ऑफिस आए थे तो उन्होंने कहा था कि एक घंटे में सब क्लीयर हो जाएगा। वह सुबह हनुमान मंदिर में दर्शन करने के लिए भी गए थे।

रुझानों में कांग्रेस की हार होती देख कमलनाथ करीब 1.30 बजे पीसीसी ऑफिस से निकल गए।

रुझानों में कांग्रेस की हार होती देख कमलनाथ करीब 1.30 बजे पीसीसी ऑफिस से निकल गए।

मुरैना में भाजपा को झटका

भाजपा को मुरैना में झटका लगा है। ज्योतिरादित्य और केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के प्रभाव वाली मुरैना की 5 सीटों में 4 पर भाजपा पीछे चल रही है। यहां एक सीट पर बसपा भी मैदान मारती नजर आ रही है। बसपा प्रत्याशी रामप्रकाश राजौरिया मुरैना सीट से लीड लिए हैं। इस सीट पर कांग्रेस दूसरे और भाजपा तीसरे नंबर पर है। यहां चुनाव प्रचार के दौरान मुख्यमंत्री शिवराज ने नरेंद्र सिंह तोमर की मौजूदगी में एक रैली में कहा था कि आपके क्षेत्र के सांसद नरेंद्र सिंह तोमर है। वह नरेंद्र मोदी के बगल में बैठते हैं। इसलिए, यहां पर भाजपा प्रत्याशी का जीतना जरूरी है। उपुचनाव के दौरान नरेंद्र सिंह तोमर ने यहां 7 बार रैली की थी।

पूर्व मंत्री तुलसीराम सिलावट विक्ट्री का साइन दिखाते हुए।

पूर्व मंत्री तुलसीराम सिलावट विक्ट्री का साइन दिखाते हुए।

2 मंत्री पीछे, ग्वालियर की 3 सीट पर भाजपा आगे

सिंधिया खेमे के मंत्री गिर्राज दंडोतिया के अलावा एंदल सिंह कंषाना पीछे चल रहे हैं।​ वहीं,​​​​​ पूर्व मंत्री तुलसीराम सिलावट, गोविंद सिंह राजपूत के अलावा मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया, प्रदुम्न सिंह तोमर, बृजेंद्र सिंह यादव, इमरती देवी, प्रभुराम चौधरी, हरदीप सिंह डंग, राजवर्धन सिंह दत्तीगांव, सुरेश धाकड़, ओपीएस भदौरिया और बिसाहूलाल आगे चल रहे हैं।

ग्वालियर की तीनों सीट पर भाजपा आगे है। सांवेर सीट से पूर्व मंत्री सिलावट कांग्रेस प्रत्याशी प्रेमचंद गुड्‌डु से काफी आगे निकल चुके हैं। सिलावट 12 हजार से ज्यादा वोट से गुड्‌डू से आगे हैं।

पढ़ें: भास्कर का मध्य प्रदेश उपचुनाव का एग्जिट पोल

14 सीटें, जहां मंत्रियों की किस्मत दांव पर:

सीट किसके बीच मुकाबला कौन आगे
सांवेर तुलसीराम सिलावट (भाजपा) और प्रेमचंद गुड्‌डू (कांग्रेस) तुलसीराम सिलावट
सुरखी गोविंद सिंह राजपूत (भाजपा) और पारुल साहू (कांग्रेस) गोविंद सिंह राजपूत
ग्वालियर प्रद्यु्म्न सिंह तोमर (भाजपा) और सुनील शर्मा (कांग्रेस) प्रद्यु्म्न सिंह तोमर
डबरा इमरती देवी (भाजपा) और सुरेश राजे (कांग्रेस) इमरती देवी
बमोरी महेंद्र सिंह सिसौदिया (भाजपा) और कन्हैया लाल (कांग्रेस) महेंद्र सिंह सिसौदिया
सुमावली एंदल सिंह कंषाना (भाजपा) और अजब सिंह कुशवाह (कांग्रेस) अजब सिंह कुशवाह
दिमनी गिर्राज दंडोतिया (भाजपा) और रविंद्र सिंह तोमर (कांग्रेस) रविंद्र सिंह तोमर
बदनावर राजवर्धन सिंह (भाजपा) और कमल पटेल (कांग्रेस) राजवर्धन सिंह
सांची प्रभुराम चौधरी (भाजपा) और मदन लाल चौधरी (कांग्रेस) प्रभुराम चौधरी
पोहरी सुरेश धाकड़ (भाजपा) और हरिवल्लभ शुक्ला (कांग्रेस) सुरेश धाकड़
अनूपपुर बिसाहूलाल सिंह (भाजपा) और विश्वनाथ सिंह कुंजाम (कांग्रेस) बिसाहूलाल
सुवासरा हरदीप सिंह डंग (भाजपा) और राकेश पाटीदार (कांग्रेस) हरदीप सिंह डंग
मुंगावली बृजेंद्र सिंह यादव (भाजपा) और कन्हाई राम लोधी (कांग्रेस) बृजेंद्र सिंह यादव
मेहगांव ओपीएस भदौरिया (भाजपा) और हेमंत कटारे (कांग्रेस) ओपीएस भदौरिया
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान चुनावी रुझानों में भाजपा की बढ़त के बाद गोपाल भार्गव को सीएम आवास में मिठाई खिलाते हुए।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान चुनावी रुझानों में भाजपा की बढ़त के बाद गोपाल भार्गव को सीएम आवास में मिठाई खिलाते हुए।

चुनाव अपडेट्स:

  • मलहरा से भाजपा के प्रद्युम्न सिंह लोधी आगे है। वह कांग्रेस प्रत्याशी रामसिया भारती से 1729 वोट की लीड लिए हैं।
  • मुरैना से बसपा प्रत्याशी रामप्रकाश राजौरिया आगे हैं। वह कांग्रेस के राकेश मवई से 2900 वोटों से अधिक की लीड पर हैं। यहां भाजपा तीसरे नंबर पर है। यह सीट केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के प्रभाव वाली मानी जाती है।
  • गोहद से कांग्रेस के मेवालाल जाटव आगे हैं। वह भाजपा के रणवीर जाटव से 2000 से अधिक वोटों से आगे हैं।
  • मंधाता से भाजपा के नारायण सिंह पटेल आगे हैं। वह कांग्रेस के उत्तम पाल सिंह से 13000 से अधिक वोट की लीड लिए हैं।
  • देवास की हाट पिपल्या से भाजपा प्रत्याशी मनोज चौधरी आगे हो गए हैं। वह कांग्रेस प्रत्याशी राजवीर सिंह बघेल से 1171 वोट की लीड लिए हैं
  • मुरैना की जौरा सीट पर कांग्रेस के पंकज उपाध्याय आगे हैं। वह भाजपा के सूबेदार सिंह से 1374 वोट की लीड लिए हैं।
  • नेपानगर में भाजपा प्रत्याशी सुमित्रा देवी कास्डेकर 8941 वोट से आगे हैं। उनका मुकाबला कांग्रेस के रामकिशन पटेल से है।
  • शिवपुरी की करैरा सीट से कांग्रेस के प्रागीलाल जाटव आगे हैं। वे भाजपा प्रत्याशी जसमंत जाटव से 2457 वोट से आगे हैं।
  • अम्बाह से भाजपा प्रत्याशी कमलेश जाटव आगे हैं। वह कांग्रेस प्रत्याशी सत्यप्रकाश शखवार से 1700 की लीड लिए हैं।
  • ब्यावरा में कांग्रेस प्रत्याशी रामचंद्र डांगी आगे हैं। वे भाजपा प्रत्याशी नारायण सिंह पंवार से 9 हजार से ज्यादा वोट की लीड लिए हैं।
  • बदनावर में मंत्री व भाजपा प्रत्याशी राजवर्धन सिंह दत्तीगांव आगे हैं। वे कांग्रेस की कमल सिंह पटेल से 16 हजार वोट की लीड पर हैं।
  • सांची से भाजपा प्रत्याशी प्रभुराम चौधरी आगे हैं। वह कांग्रेस के मदनलाल चौधरी से 12000 से ज्यादा वोट की लीड लिए हैं।
  • डबरा सीट से भाजपा प्रत्याशी और मंत्री इमरती देवी आगे हैं। वह कांग्रेस के सुरेश राजे से 800 वोट की लीड लिए हैं।
  • ग्वालियर से भाजपा प्रत्याशी प्रद्यु्म्न सिंह तोमर आगे हैं। वह कांग्रेस के सुनील शर्मा से 2 हजार से ज्यादा वोट से आगे हैं।
  • ग्वालियर पूर्व से भाजपा प्रत्याशी मुन्ना लाल गोयल आगे हैं। वह कांग्रेस के सतीश सिकरवार से 2 हजार वोट की लीड लिए हैं।
  • आगर से भाजपा के मनोज ऊंटवाल आगे हैं। वह कांग्रेस के विपिन वानखेड़े से आगे हैं। वह 5 राउंड में 714 वोट की लीड लिए हैं।
  • भांडेर से भाजपा की रक्षा राम सिरोनिया से आगे हैं। वह कांग्रेस के फूल सिंह बरैया से 1197 वोट से लीड लिए हैं।
  • सुमावली में कांग्रेस प्रत्याशी अजब सिंह कुशवाह आगे हैं। यहां भाजपा प्रत्याशी मंत्री एदल सिंह कंसाना से उनका मुकाबला है।
  • अशोकनगर की मुंगावली सीट से भाजपा प्रत्याशी बृजेंद्र सिंह यादव आगे हैं। वह कांग्रेस के कन्हाई राम लोधी से 6 हजार से ज्यादा की लीड पर हैं।
  • अशोकनगर सीट से भाजपा के जजपाल सिंह जज्जी आगे हैं। वह कांग्रेस के आशा दोहरे से 5000 वोट की लीड लिए हैं।
पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ मतगणना शुरू होने के दौरान भोपाल में कमला पार्क स्थित हनुमान मंदिर दर्शन करने के लिए पहुंचे।

पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ मतगणना शुरू होने के दौरान भोपाल में कमला पार्क स्थित हनुमान मंदिर दर्शन करने के लिए पहुंचे।

शिवराज का ट्वीट:

दिग्विजय का ट्वीट:

सबसे जल्दी रिजल्ट अनूपपुर जिले से आने की उम्मीद है। यहां 18 राउंड में काउंटिंग होगी। सबसे लेट ग्वालियर के रिजल्ट आएंगे। यहां 32 राउंड काउंटिंग होगी। उप मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी प्रमोद शुक्ला ने बताया कि इस बार सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने के लिए प्रत्येक राउंड में 14-14 टेबल होंगी।

प्रदेश में 46619 पोस्टल बैलेट डाले गए हैं। सबसे ज्यादा 3675 मेहगांव में और सबसे कम 491 करैरा में पड़े हैं। अनूपपुर में सबसे कम 18 राउंड हैं, इसलिए यहां नतीजा सबसे पहले, जबकि 32 राउंड वाली ग्वालियर पूर्व सीट का सबसे बाद में आ सकता है।

28 सीटों पर 12 मंत्री और 2 पूर्व मंत्रियों की प्रतिष्ठा दांव पर
शिवराज सरकार के 12 मंत्रियों और 2 पूर्व मंत्रियों ( तुलसी सिलावट और गोविंद सिंह राजपूत पद से इस्तीफा दे चुके) की किस्मत का फैसला भी होगा। जानकार मानते हैं कि यदि मंत्री को हार का सामना करना पड़ा, तो भाजपा में उनकी राह आसान नहीं होगी। अनुमान इससे भी लगाया जा सकता है कि इससे पहले चौधरी राकेश सिंह और प्रेमचंद गुड्‌डू को राजनीतिक भविष्य बचाने के लिए कांग्रेस में वापसी करनी पड़ी थी।

सीटों की संख्या के मायने
शिवराज सिंह चौहान: भाजपा को 20 से ज्यादा सीटें मिलती हैं, तो शिवराज का कद तो बढ़ेगा, लेकिन सत्ता और संगठन में सिंधिया का दखल ज्यादा होने से उन्हें फैसले लेने की पूरी आजादी नहीं होगी। 10 से 15 के बीच सीटें आती हैं, तो सरकार में फैसले करने में शिवराज पर संगठन का ज्यादा दबाव रहेगा।

ज्योतिरादित्य सिंधिया: भाजपा के खाते में 20 से अधिक सीटें आती हैं, तो सिंधिया की प्रदेश की राजनीति में एक बार फिर धमाकेदार एंट्री होगी और भाजपा में बड़े नेता के तौर पर उभर सकते हैं। यदि 10 से 15 के बीच सीटें आती हैं, तो प्रदेश की राजनीति में कम, केंद्र में सक्रियता ज्यादा रहेगी।

कमलनाथ: कांग्रेस यदि सिंधिया के गढ़ को धराशायी कर 20 से ज्यादा सीटें हासिल कर लेती है, तो कमलनाथ का कद कांग्रेस में और बढ़ जाएगा। दूसरा पहलू यह है कि यदि वे सरकार बनाने में कामयाब न हो सके और 10 से 15 सीटें ही मिलीं, तो प्रदेश अध्यक्ष और नेता प्रतिपक्ष में से एक पद छोड़ने का दबाव बढ़ जाएगा।

दांव पर ‘सरकार’: जीत का गणित
विधानसभा की कुल सीटें: 230
(दमोह से कांग्रेस विधायक राहुल लोधी के इस्तीफा देने के बाद एक सीट और खाली हो गई है)

  • अब कुल संख्या: 229
  • उपचुनाव: 28 सीटें
  • भाजपा: 107, (बहुमत के लिए 9 सीटें चाहिए)
  • कांग्रेस: 87 (बहुमत के लिए 28 सीटें चाहिए)





Source link

Share:

Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
Share on linkedin
Share on whatsapp

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *