Most Popular

Social Media

Get The Latest Updates

Subscribe To Our Weekly Newsletter

No spam, notifications only about new products, updates.

Mamata Banerjee: West Bengal Narda Scam Case Update | Jagdeep Dhankar React TMC Party Leaders Protest IN front Of Raj Bhawan | हिंसा पर लोकतंत्र की दुहाई देने वाले धनखड़ को विरोध प्रदर्शन से परेशानी, राजभवन के बाहर TMC के हंगामे पर आपत्ति जताई


  • Hindi News
  • National
  • Mamata Banerjee: West Bengal Narda Scam Case Update | Jagdeep Dhankar React TMC Party Leaders Protest IN Front Of Raj Bhawan

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कोलकाता16 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
आधा दर्जन से ज्यादा भेड़ों के साथ राजभवन के गेट पर प्रदर्शन करता टीएमसी कार्यकर्ता। - Dainik Bhaskar

आधा दर्जन से ज्यादा भेड़ों के साथ राजभवन के गेट पर प्रदर्शन करता टीएमसी कार्यकर्ता।

चुनाव के दौरान हुई हिंसा पर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को लोकतंत्र की दुहाई देने वाले बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने राजभवन में हुए प्रदर्शन पर आपत्ति जताई है। उन्होंने इस मामले पर कोलकाता के पुलिस आयुक्त से रिपोर्ट तलब की है।

उन्होंने पत्र लिखकर कहा है कि प्रदर्शनकारी करीब आधा दर्जन भेड़ों के साथ राजभवन के उत्तरी गेट पर 2 घंटे तक प्रदर्शन करते रहे। पुलिस चुपचाप उन्हें देखती रही, किसी ने भी उन्हें रोकने की कोशिश नहीं की। उन्होंने सोशल मीडिया पर एक के बाद कई वीडियो भी शेयर किए। तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने नारदा स्टिंग ऑपरेशन में TMC के 4 नेताओं की गिरफ्तारी के बाद राजभवन के उत्तरी गेट पर प्रदर्शन किया था। इस बीच राज्यपाल पर आपत्तिजनक टिप्पणी भी की गई थीं।

कोलकाता के सीपी को वीडियो भेजा
राज्यपाल ने प्रदर्शनकारियों पर कोई कार्रवाई ना करने का पुलिस पर आरोप लगाया है। जगदीप धनखड़ ने कहा है कि राजभवन में धारा 144 लागू थी, फिर भी प्रदर्शनकारियों ने उत्तरी गेट को पूरी तरह से बंद कर दिया। संवैधानिक पद पर बैठे व्यक्ति के खिलाफ आपत्तिजनक बयान दिए गए, लेकिन ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मी चुपचाच ये सब देखते रहे। ऐसा दूसरी बार हुआ है।

राज्यपाल ने कोलकाता के सीपी को वीडियो भेजने के साथ सोशल मीडिया पर भी शेयर किया है। इससे पहले राज्यपाल ने निजाम पैलेस के सामने TMC कार्यकर्ताओं के प्रदर्शन पर आपत्ति जताई थी। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर हमला बोलते हुए उन्होंने कहा था कि राज्य में कानून व्यवस्था पूरी तरह से खत्म हो गई है।

7 घंटे में मिली थी जमानत, 5 घंटे बाद कैंसिल हुई
इससे पहले कलकत्ता हाईकोर्ट ने TMC नेताओं को जमानत देने के आदेश पर रोक लगा दी थी। इसके पहले इन चारों नेताओं को CBI ने गिरफ्तार किया था और इन्हें स्पेशल कोर्ट से जमानत भी मिल गई थी। CBI की विशेष कोर्ट ने गिरफ्तारी के 7 घंटे बाद ही जमानत दे दी थी। केंद्रीय जांच एजेंसी ने इसके पहले हाईकोर्ट का रुख किया था और एजेंसी ने कोर्ट में कहा कि वो यहां ठीक से काम नहीं कर पा रहे हैं और उनकी जांच प्रभावित हो रही है। इसके बाद पांच घंटे में ही हाईकोर्ट ने स्पेशल कोर्ट के फैसले पर रोक लगाते हुए चारों नेताओं की जमानत का आदेश खारिज कर दिया।

CBI ने सोमवार को कई जगह छापे मारे थे। इसके बाद ममता सरकार में मंत्री फिरहाद हाकिम, सुब्रत मुखर्जी, विधायक मदन मित्रा और पूर्व मेयर शोवन चटर्जी से पूछताछ की थी। पूछताछ के बाद सभी को अरेस्ट कर लिया गया था। उन्हें कोर्ट में पेश किया गया था। CBI कोर्ट से इन चारों नेताओं की कस्टडी चाहती थी, लेकिन शाम को अनुपम मुखर्जी की विशेष अदालत ने इन्हें 50-50 हजार के निजी मुचलके पर जमानत दे दी।

6 घंटे CBI दफ्तर में मौजूद रहीं ममता
मंत्रियों से पूछताछ के दौरान ही बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी CBI के दफ्तर पहुंच गई थीं। उन्होंने CBI से कहा था कि आप मुझे भी गिरफ्तार करिए। सिर्फ TMC नेताओं पर ही कार्रवाई क्यों हो रही है? भाजपा में गए मुकुल रॉय और शुभेंदु अधिकारी पर कोई एक्शन क्यों नहीं लिया जा रहा? ममता बनर्जी करीब 6 घंटे तक CBI के ऑफिस में ही मौजूद रहीं थीं। आखिरकार कोर्ट के फैसले की बात कह कर वो वहां से लौट गईं थीं।

खबरें और भी हैं…





Source link

Share:

Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
Share on linkedin
Share on whatsapp

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *