Mukhyamantri Abhyudaya Yojana Will Be Implemented From February 16, Children Will Be Made Ready For Competitive Examinations – 16 फरवरी से लागू होगी मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना, बच्चों को प्रतियोगी परीक्षाओं की कराई जाएगी तैयारी


प्रतीकात्मक तस्वीर
– फोटो : अमर उजाला

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

प्रदेश में मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना को बसंत पंचमी 16 फरवरी से लागू किया जाएगा। इसके तहत प्रतिभाशाली तथा उत्साही विद्यार्थियों को नि:शुल्क प्रशिक्षण, ऑनलाइन प्रशिक्षण व सलाह प्रदान की जाएगी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के समक्ष बृहस्पतिवार को इस योजना का प्रस्तुतीकरण किया गया।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए ग्रामीण क्षेत्र तथा निर्बल आय वर्ग के परिवारों के बच्चों को इनकी गुणवत्तापरक तैयारी सुनिश्चित कराई जाए। उन्होंने कहा कि इसके लिए सभी मंडलों में मौजूद विद्यालयों, विश्वविद्यालयों के इंफ्रास्ट्रक्चर का भरपूर उपयोग कक्षाएं चलाने के लिए किया जाए। जिन मंडलों में प्रशिक्षण का कार्य अच्छे ढंग से किया जा रहा हो उनका मॉडल अन्य मंडलों में भी विकसित किया जाए। उन्होंने इन प्रशिक्षण केंद्रों को चलाने के लिए उत्तर प्रदेश अकादमी ऑफ  एडमिनिस्ट्रेशन एंड मैनेजमेंट के सिस्टम को अपनाने के निर्देश दिए।

इस दौरान अपर मुख्य सचिव सूचना एवं एमएसएमई नवनीत सहगल ने इस योजना के क्रियान्वयन, राज्य स्तर पर ई-लर्निंग प्लैटफ ार्म की स्थापना, कार्यकारी समिति के गठन, मंडल स्तर पर राज्य सरकार के अधिकारियों द्वारा वर्चुअल एवं साक्षात कक्षाओं के आयोजन, मेधावी छात्रों के चयन और कार्ययोजना तथा वित्त व्यवस्था आदि के संबंध में विस्तार से जानकारी दी। बैठक में अपर मुख्य सचिव नियुक्ति मुकुल सिंघल, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री एवं सूचना संजय प्रसाद, पुलिस महानिरीक्षक लक्ष्मी सिंह, प्रमुख सचिव समाज कल्याण बीएल मीणा, सचिव मुख्यमंत्री आलोक कुमार, सूचना निदेशक शिशिर सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।
 

प्रदेश में मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना को बसंत पंचमी 16 फरवरी से लागू किया जाएगा। इसके तहत प्रतिभाशाली तथा उत्साही विद्यार्थियों को नि:शुल्क प्रशिक्षण, ऑनलाइन प्रशिक्षण व सलाह प्रदान की जाएगी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के समक्ष बृहस्पतिवार को इस योजना का प्रस्तुतीकरण किया गया।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए ग्रामीण क्षेत्र तथा निर्बल आय वर्ग के परिवारों के बच्चों को इनकी गुणवत्तापरक तैयारी सुनिश्चित कराई जाए। उन्होंने कहा कि इसके लिए सभी मंडलों में मौजूद विद्यालयों, विश्वविद्यालयों के इंफ्रास्ट्रक्चर का भरपूर उपयोग कक्षाएं चलाने के लिए किया जाए। जिन मंडलों में प्रशिक्षण का कार्य अच्छे ढंग से किया जा रहा हो उनका मॉडल अन्य मंडलों में भी विकसित किया जाए। उन्होंने इन प्रशिक्षण केंद्रों को चलाने के लिए उत्तर प्रदेश अकादमी ऑफ  एडमिनिस्ट्रेशन एंड मैनेजमेंट के सिस्टम को अपनाने के निर्देश दिए।

इस दौरान अपर मुख्य सचिव सूचना एवं एमएसएमई नवनीत सहगल ने इस योजना के क्रियान्वयन, राज्य स्तर पर ई-लर्निंग प्लैटफ ार्म की स्थापना, कार्यकारी समिति के गठन, मंडल स्तर पर राज्य सरकार के अधिकारियों द्वारा वर्चुअल एवं साक्षात कक्षाओं के आयोजन, मेधावी छात्रों के चयन और कार्ययोजना तथा वित्त व्यवस्था आदि के संबंध में विस्तार से जानकारी दी। बैठक में अपर मुख्य सचिव नियुक्ति मुकुल सिंघल, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री एवं सूचना संजय प्रसाद, पुलिस महानिरीक्षक लक्ष्मी सिंह, प्रमुख सचिव समाज कल्याण बीएल मीणा, सचिव मुख्यमंत्री आलोक कुमार, सूचना निदेशक शिशिर सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।

 



Source link

Share:

Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
Share on linkedin
Share on whatsapp

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *