Most Popular

Social Media

Get The Latest Updates

Subscribe To Our Weekly Newsletter

No spam, notifications only about new products, updates.

Picture of accused fake IAS officer with IMA State Secretary and TMC MP, BJP said- Mamta’s complicity | आरोपी नकली IAS अफसर की TMC सांसद और IMA के स्टेट सेक्रेटरी के साथ फोटो, भाजपा ने कहा- ममता की मिलीभगत


  • Hindi News
  • National
  • Picture Of Accused Fake IAS Officer With IMA State Secretary And TMC MP, BJP Said Mamta’s Complicity

कोलकाता3 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

कोलकाता में बुधवार को नकली वैक्सीन लगाने वाले एक बड़े रैकेट का खुलासा हुआ। मामले का मुख्य आरोपी और खुद को IAS अफसर बताने वाले देबांजन देव की सत्तारूढ़ TMC के सांसद डॉ. शांतनु सेन के साथ एक तस्वीर सामने आई है। डॉ. सेन इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (IMA) के स्टेट सेक्रेटरी भी हैं। तस्वीर के आते ही राजनीतिक बयानबाजी तेज हो गई है।

देबांजन ने अपने सोशल मीडिया एकाउंट पर पुलिस अफसरों, बड़े सरकारी अधिकारियों और बंगाल के कई बड़े नेताओं के साथ फोटो डाल रखी है। उसने अपने ट्विटर एकाउंट पर कोलकाता में उसके द्वारा चलाए गए वैक्सीनेशन प्रोग्राम, कोरोना टेस्टिंग और सैनिटाइजेशन से जुड़ी तस्वीरें भी पोस्ट की हैं। देबांजन पर आरोप है कि इसने 2 हजार लोगों को फर्जी वैक्सीन लगाई है।

तस्वीर सामने आने के बाद भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष और सांसद दिलीप घोष ने ममता बनर्जी सरकार पर हमला बोला है। घोष ने कहा कि ये एक बड़ा घोटाला है। मामले में TMC के बड़े नेता और मंत्री जुड़े हुए हैं। राज्य सरकार किसी भी भ्रष्टाचार का खुलासा नहीं होने देती, वे घोटालेबाजों को हमेशा बचाते रहे हैं। हम सरकार से मांग करते हैं कि इस केस में जिन लोगों का नाम आ रहा है वे फौरन इस्तीफा दें। हम CBI से भी इसकी जांच की मांग करेंगे।

वहीं, आरोपी के साथ तस्वीरों पर TMC के सांसद और IMA के स्टेट सेक्रेटरी डॉ. शांतनु सेन ने भी अपनी सफाई दी है। डॉ. सेन ने कहा कि जब मुझे पता चला कि देबांजन देब गलत काम कर रहा है तो हमने उसके खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाई है। पुलिस अपना काम करेगी। मेरा मानना है कि कोलकाता म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन उन लोगों से मिले जिन्होंने वैक्सीन ली है। यह देखना जरूरी है कि वैक्सीन लेने वाले लोगों को कोई दिक्कत तो नहीं हो रही है।

बंगाल के बड़े नेताओं के साथ आरोपी देबांजन देब।

बंगाल के बड़े नेताओं के साथ आरोपी देबांजन देब।

नीली बत्ती की कार में बॉडी गार्ड लेकर घुमता था आराेपी
कोलकाता पुलिस के मुताबिक, देबांजनदेव ने पूरी योजना सोच-समझकर बनाई थी। फर्जी वैक्सीनेशन चलाने वाला आरोपी देबांजन खुद को IAS अधिकारी बताता और निली बत्ती वाली गाड़ी में बॉडीगार्ड लेकर चलता था। पड़ोसियों को उसने बता रखा था कि वह कोलकाता म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन में जॉइंट सेक्रेटरी है।

एक पुलिस अधिकारी ने कहा, ‘वह जिस ऑफिस को चलाते थे, वह कोलकाता म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन के जैसा दिखता था। पुलिस को शक है कि उसके निगम के भी कुछ अधिकारियों के साथ नजदीकी संबंध रहे होंगे। पुलिस उसकी प्रॉपर्टी की भी जांच कर रही है।

पुलिस के खुफिया विभाग ने देबांजन देव से पूछताछ के दौरान कुछ दिलचस्प जानकारियां हासिल की हैं। पुलिस ने कोलकाता म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन के लेटरहेड, लोगो, रबर स्टैंप और कई अन्य दस्तावेज बरामद किए हैं। पुलिस के मुताबिक, देव ने अपने कारनामों के लिए कई लोगों को भर्ती कर वेतन भी दिया है। एक आरोपी ने नाम न बताने की शर्त पर कहा कि नौकरी के लिए उससे 3 लाख रुपए भी लिए गए थे।

देबांजन अपने साथ गनर भी रखता था। उसके जलवे किसी सेलिब्रिटी से कम नहीं थे।

देबांजन अपने साथ गनर भी रखता था। उसके जलवे किसी सेलिब्रिटी से कम नहीं थे।

TMC की सांसद ने ही किया खुलासा
​​फर्जी वैक्सीन रैकेट की पूरी घटना तब सामने आई जब जादवपुर से TMC की सांसद मिमी चक्रवर्ती ने कोलकाता पुलिस में शिकायत दर्ज कराई कि शहर के दक्षिणी इलाके कस्बा में एक व्यक्ति फर्जी वैक्सीनेशन सेंटर चला रहा है।

अभिनेत्री से नेता बनीं चक्रवर्ती ने इस शिविर को तब संदिग्ध पाया जब बुधवार शाम को इस शिविर से वैक्सीन लेने के बाद उन्हें कोई आधिकारिक पुष्टि नहीं मिली और फिर उन्होंने अपनी शिकायत दर्ज कराई। इसके बाद पुलिस ने तुरंत दक्षिण कोलकाता से आरोपी देबांजन देब को गिरफ्तार कर लिया।

खबरें और भी हैं…



Source link

Share:

Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
Share on linkedin
Share on whatsapp

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *