Rafale: अब आंख उठाकर नहीं देखेगा दुश्मन, 20 मिनट में इस्लामबाद पर हमले कर सकता है राफेल

 

नई दिल्ली: फ्रांस से आ रहे राफेल लड़ाकू विमान दो दशक से ज्यादा समय में भारत की ओर से रक्षा सौदों में पहली बड़ी खरीद है. इन विमानों के देश में आने से भारतीय वायुसेना की युद्धक क्षमता कई गुना बढ़ जाएगी. इसके बाद पाकिस्तान और चीन जैसे दुश्मन देश भारत की तरफ आंख उठाकर भी नहीं देखेंगे.

 

अंबाला एयरबेस को भारतीय वायुसेना का महत्वपूर्ण बेस माना जाता है, क्योंकि यहां से भारत-पाकिस्तान सीमा महज 220 किलोमीटर की दूरी पर है. विशेषज्ञ बताते हैं कि राफेल विमान अंबाला से महज बीस मिनट के अंदर पाकिस्तान में घुसकर इस्लामाबाद पर हमले कर सकते हैं. राफेल लड़ाकू विमान ऐसे समय वायुसेना में शामिल हो रहे हैं, जब चीन से हमारा विवाद चल रहा है और पाकिस्तान की ओर से लगातार आतंकी और गोलीबारी की घटनाएं हो रही हैं.

दुश्मनों को तहस-नहस करने वाले हथियारों से लेस हैं ये विमान

 

ये विमान दुश्मनों को तहस-नहस करने वाले हथियारों से लेस हैं. कहा जा रहा है कि जब राफेल भारतीय वायुसेना के बेड़े में शामिल हो जाएगा और भारत आसमान में राज करेगा. पाकिस्तान के पास राफेल की टक्कर का कोई विमान नहीं है. पाकिस्तान के पास F-16 है लेकिन अकेला राफेल दो एएफ-16 के बराबर है.

 

भारत के पास अभी जो फाइटर प्लेन जैसे मिग-29, मिराज,सुखोई-30 है, इनकी तुलना में राफेल एक अलग जनरेशन का फाइटर प्लेन है, जो टारगेट को आसानी से भेद सकता है और पड़ोसी देशों पर एयरस्ट्राइक कर सकता है.

 

भारत ने खरीदे हैं 36 राफेल लड़ाकू विमान

 

बता दें कि भारत ने 23 सितंबर 2016 को फ्रांसीसी एरोस्पेस कंपनी दसॉल्ट एविएशन से 36 राफेल लड़ाकू विमान खरीदने के लिए 59 हजार करोड़ रुपये का सौदा किया था. भारत ने जो 36 राफेल विमान खरीदे हैं उनमें से 30 विमान लड़ाकू जबकि छह प्रशिक्षक विमान हैं.

 

इन विमानों को बुधवार दोपहर में भारतीय वायुसेना में स्क्वाड्रन नम्बर 17 में शामिल किया जाएगा, जिसे ‘गोल्डन एरोज’ के नाम से भी जाना जाता है. हालांकि, इन विमानों को औपचारिक रूप से भारतीय वायुसेना में शामिल करने के लिए मध्य अगस्त के आसपास समारोह आयोजित किया जा सकता है, जिसमें रक्षामंत्री राजनाथ सिंह और देश के शीर्ष सैन्य अधिकारियों के शामिल होने की उम्मीद है.

Share:

Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
Share on linkedin
Share on whatsapp

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

On Key

Related Posts

मनोज शाह बने अयोध्या राम पीठ के केंद्रीय विदेश संपर्क प्रमुख

  वाराणसी। अयोध्या के सबसे प्राचीन एवं ऐतिहासिक पीठों में शामिल साकेत भूषण श्रीराम पीठ विद्याकुण्ड के महंत शम्भू देवाचार्य ने काशी के समाजसेवी मनोज

उत्तर प्रदेश में यातायात नियम उल्लंघन करने पर कसा शिकंजा , आये नए नियम

उत्तर प्रदेश , गुरुवार 30 जुलाई 2020 पारिवाहन निगम ने एक बार फिर यातायात नियमो का उल्लंघन करने वालों पर शिकंजा कसा है परिवहन निगम

रक्षा बंधन पर बहन प्रियंका ने राहुल के साथ साझा की तस्वीर, सभी को दी त्योहार की बधाई

पूरे देश में सोमवार को भाई और बहन के पवित्र रिश्ते का प्रतीक रक्षा बंधन का त्योहार धूमधाम से मनाया जा रहा है। ऐसे में

subscribe to our 24x7 Khabar newsletter