राजस्थान में घमासान तेज । दो विधायक निलंबित

पायलट समेत 19 विधायकों की अयोग्यता नोटिस के खिलाफ याचिका पर थोड़ी देर में HC में सुनवाई

जयपुर, एजेंसियां। राजस्थान में जारी सियासी लड़ाई अब कोर्ट के दरवाजे तक पहुंच गई है। इ हाइकोर्ट में सचिन पायलट समेत उनके 19 समर्थित विधायकों की याचिका पर दोबारा सुनवाई होने वाली है। राजस्थान में सचिन पायलट सहित उनके 19 समर्थित विधायकों को विधानसभा अध्यक्ष के नोटिस देने का मामला गुरुवार को हाई कोर्ट पहुंचा था। हाइकोर्ट की डबल बेंच आज इस मामले पर थोड़ी देर में सुनवाई करेगी।

इस बीच राजस्थान में सियासी घमासान और तेज हो गया है। कथित ‘टेप कांड’ में नाम सामने आने के बाद केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने कहा है कि वायरल ऑडियो टेप में मेरी आवाज नहीं है। इस बीच कांग्रेस की ओर से एसओजी में दो एफआइआर दर्ज की गई है। इससे पहले कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने राजस्थान सरकार को गिराने की कोशिश में भाजपा का हाथ बताया है। उन्होंने इस साजिश में केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत के शामिल होने की बात कही। उन्होंने भाजपा नेता संजय जैन और कांग्रेस विधायक भंवर लाल शर्मा से जुड़ी बातचीत के ऑडियो टेप को लेकर कई खुलासे किए हैं। कांग्रेस के दो बागी विधायकों को इस मामले में निलंबित किया गया है।

एसओजी की जांच में पता चलेगा सच- महेश जोशी:

कांग्रेस के मुख्य सचेतक महेश जोशी ने कहा है कि एफआईआर(FIR) में भंवर लाल शर्मा, गजेंद्र सिंह और संजय जैन का नाम लिया गया है। मैंने केवल गजेंद्र सिंह का उल्लेख किया है लोग अनुमान लगा रहे हैं, विशेष ऑपरेशन ग्रुप (एसओजी) जांच में इसका पता लगाएगी।

ऑडियो क्लिप मामले में 2 FIR दर्ज:

स्पेशल ऑपरेशंस ग्रुप (एसओजी) के एडीजी अशोक राठौर ने कहा है कि कथित ऑडियो टेप मामले में महेश जोशी (कांग्रेस नेता) की ओर से दो शिकायतें दी गई हैं, यह उस ऑडियो के संबंध में है जो कल वायरल हुआ था। हमने धारा 124ए और 120बी के तहत 2 एफआईआर दर्ज की हैं। जांच की जाने वाली क्लिप की सत्यता जांची जाएगी। उन्होंने बताया कि संजय जैन से कल पूछताछ की गई थी, उन्हें आज भी बुलाया गया था। वर्तमान में हम उनसे कुछ तथ्यों का पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं।

CM आवास फर्जी ऑडियो जारी करने का केन्द्र बना- पूनिया:

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने कहा है कि राजस्थान की जनता आज शर्मसार है कि मुख्यमंत्री निवास फर्जी ऑडियो जारी करने का केन्द्र बन गया है, नेताओं के चरित्र हनन का प्रयास किया जा रहा है। पूनिया ने कहा कि कुर्सी बचाने के लिए केंद्रीय मंत्रियों का नाम इस मामले में घसीटा जा रहा है।

ऑडियो क्लिप मामले में SOG में 2 FIR दर्ज:

राजस्थान में विशेष अभियान समूह (एसओजी) ने राजस्थान सरकार को गिराने की साजिश के बारे में कथित ऑडियो क्लिप मामले में 2 एफआईआर दर्ज की गई है। एडीजी एसओजी अशोक राठौर ने कहा है कि ऑडियो क्लिप की प्रामाणिकता पहले जांच की जाएगी।

राजस्थान में सियासी घमासान और तेज हो गया है। टेप कांड में नाम सामने आने के बाद केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने कहा है कि मैं किसी भी जांच का सामना करने के लिए तैयार हूं। वायरल ऑडियो टेप में मेरी आवाज नहीं है

कांग्रेस ने 2 बागी विधायकों को किया निलंबित:

कांग्रेस ने आज दो बागी विधायकों को पार्टी से निलंबित कर दिया है।कांग्रेस की ओर से विधायक भंवर लाल शर्मा और विश्वेंद्र सिंह को पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से निलंबित करने को लेकर बयान जारी किया गया है। राजस्थान में कांग्रेस की सरकार को गिराने की साजिश में उनके आचरण की व्याख्या करने के लिए उन्हें कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है।

कांग्रेस ने 2 बागी विधायकों को किया निलंबित

कांग्रेस ने आज दो बागी विधायकों को पार्टी से निलंबित कर दिया है।कांग्रेस की ओर से विधायक भंवर लाल शर्मा और विश्वेंद्र सिंह को पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से निलंबित करने को लेकर बयान जारी किया गया है। राजस्थान में कांग्रेस की सरकार को गिराने की साजिश में उनके आचरण की व्याख्या करने के लिए उन्हें कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है।

भाजपा ने की सरकार गिराने की बड़ी साजिश- सुरजेवाला

कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि बीजेपी राजस्थान की सरकार गिराने की कोशिश की है। इसके कुछ ऑडियो भी सामने आ रहे हैं, जिसमें राजस्थान के कांग्रेस विधायकों को खरीदने की कोशिश की जा रही है। इस दौरान रणदीप सुरजेवाला ने कांग्रेस नेता भंवरलाल शर्मा और बीजेपी नेता संजय जैन की बातचीत से जुड़े कई खुलासे किए।

कांग्रेस नेता सुरजेवाला ने बताया कि कल मीडिया द्वारा चौंकाने वाले ऑडियो टेप दिखाए गए, जिसमें केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत, भाजपा नेता संजय जैन और कांग्रेस विधायक भंवर लाल शर्मा ने विधायकों को रिश्वत देने और राजस्थान सरकार को गिराने बात कही। रणदीप सुरजेवाला ने आरोप लगाया कि केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत इस पूरी साजिश में शामिल हैं। उनपर तुरंत FIR दर्ज होनी चाहिए और गिरफ्तारी की जानी चाहिए। सुरजेवाला ने बताया कि ऑडियो टेप की बातचीत सामने आने के बाद कांग्रेस ने विधायक भंवर लाल शर्मा और विश्वेंद्र सिंह को पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से निलंबित कर दिया है।

सुरजेवाला ने कहा कि सचिन पायलट को सामने आकर इस सच्चाई को उजागर करना चाहिए और विधायकों की लिस्ट जारी करनी चाहिए।

5 साथियों ने छोड़ा पायलट का साथ:

राजस्थान में 6 दिनों से जारी सियासी भूचाल के बीच सचिन पायलट और अशोक गहलोत के बीच रस्साकशी जारी है। इस बीच पायलट खेमे में हलचल की खबर है। पायलट के 5 खास साथियों ने उनका साथ छोड़ दिया है।तीन दिन पहले तक अपने साथ 30 विधायकों का समर्थन होने का दावा कर रहे पायलट के पास अब सिर्फ 25 विधायक ही बचे हैं।  पायलट का साथ छोड़ने वालों में परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास,विधायक दानिश अबरार,चेतन डूडी,रोहित बोहरा व प्रशांत बैरवा शामिल है । ये सभी वे नेता हैं जो पिछले साढ़े छह साल से पायलट के साथ काम कर रहे थे ।

आज दोपहर एक बजे HC में सुनवाई:

आज हाइकोर्ट में सचिन पायलट समेत उनके 19 समर्थित विधायकों की याचिका पर सुनवाई होने वाली है। यह सियासी घमासान हाई कोर्ट के सिंगल बेंच से होता हुआ मुख्य न्यायाधीश इंद्रजीत महांती और जस्टिस प्रकाश गुप्ता की डबल बेंच तक पहुंच गया है। मुख्य न्यायाधीश इस मामले की सुनवाई शुक्रवार दोपहर एक बजे करेंगे।

पायलट के सामने होगी चुनौती:

शुक्रवार दोपहर एक बजे ही विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीपी जोशी ने 19 विधायकों के निष्कासन को लेकर दिये गए नोटिस का जवाब भी मांगा है। पायलट के लिए परेशानी यह है कि यदि हाई कोर्ट की खंडपीठ का निर्णय आने से पहले 19 विधायकों के जवाब से असंतुष्ट होकर सदस्यता रद करने का आदेश विधानसभा अध्यक्ष दे देते हैं तो मामला पेचीदा हो जाएगा। कानूनी विशेषज्ञों का मानना है कि फिर पायलट को सुप्रीम कोर्ट जाना होगा।

कानूनी लड़ाई का मंच तैयार:

राजस्थान में पिछले काफी दिनों से जारी सियासी रार में अब कोर्ट में एक बड़ी कानूनी लड़ाई की तैयारी है। इस मामले में दोनों तरफ से दिग्गज वकील भी आमने-सामने हैं। सचिन की ओर से वरिष्ठ वकील हरीश साल्वे व मुकुल रोहतगी ने नोटिस को चुनौती दी है। जबकि दूसरे पक्ष की ओर से अभिषेक मनु सिंघवी ने बहस की। यह सुनवाई ऑनलाइन हुई।

नोटिस पूरी तरह असंवैधानिक- हरीश साल्वे:

राजस्थान में सियासी उठापटक के बीच गुरुवार सुबह पायलट की तरफ से सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील हरीश साल्वे व मुकुल रोहतगी ने हाई कोर्ट में विधानसभा अध्यक्ष के नोटिस को चुनौती दी। उन्होंने कहा कि विधानसभा सत्र के दौरान ही व्हिप मान्य होता है। विधानसभा सत्र के अलावा व्हिप मान्य नहीं होता है। ऐसे में नोटिस देना या सदस्यता रद करने की मांग करना गलत है।

साल्वे ने कहा कि सदन के बाहर हुई कार्यवाही के लिए स्पीकर नोटिस जारी नहीं कर सकते। नोटिस की संवैधानिकता नहीं है। उन्होंने दो जजों की बेंच(डबल बेंच) गठित करने की मांग की। इससे पहले मामले की सुनवाई जस्टिस सतीश कुमार शर्मा की बेंच में हुई। कोर्ट में सुनवाई शुरू होते ही हरीश साल्वे ने संशोधित याचिका पेश करने का समय मांगा। इस पर कोर्ट ने उन्हें समय दिया।

कल की सुनवाई में क्या हुआ ?

गुरुवार दोपहर बाद 4:15 बजे फिर सुनवाई हुई। संशोधित याचिका पर हरीश साल्वे और विधानसभा अध्यक्ष के वकील अभिषेक मनु सिंघवी के बीच बहस हुई। सिंघवी ने याचिका का विरोध करते हुए कहा कि बिना आधार के याचिका को कैसे स्वीकार किया जा सकता है। राज्य के महाधिवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने भी याचिका का विरोध किया। मुख्य सचेतक की ओर से वकील अजीत भंडारी ने पक्ष रखा। सरकार की ओर से केवियट भी पेश की गई। सरकार की तरफ से कहा गया कि यह मामला संविधान से जुड़ा होने के कारण इसमें दो जजों की खंडपीठ(डबल बेंच) गठित की जाए। इस पर मुख्य न्यायाधीश महांती व जस्टिस गुप्ता की खंडपीठ बनाई गई। देर शाम 7:40 बजे खंडपीठ बैठी और मामले की सुनवाई के लिए शुक्रवार दोपहर एक बजे का समय दिया गया।

क्या है मामला ?

सरकारी मुख्य सचेतक डॉ. महेश जोशी ने तीन दिन पूर्व विधानसभा अध्यक्ष के समक्ष एक याचिका दायर की थी। इसमें कहा गया था कि पायलट सहित 19 विधायक पार्टी द्वारा व्हिप जारी करने के बावजूद लगातार दो बार विधायक दल की बैठक में नहीं आए, लिहाजा उनकी सदस्यता रद की जाए। याचिका में कहा गया कि नियम के अनुसार व्हिप का उल्लंघन करने वाले किसी भी पार्टी के विधायक की सदन से सदस्यता समाप्त हो जाती है। इस पर स्पीकर ने पायलट सहित सभी 19 विधायकों को नोटिस जारी कर शुक्रवार दोपहर एक बजे तक जवाब मांगा है।

इन विधायकों को दिया गया नोटिस :

विधानसभा अध्यक्ष ने सचिन पायलट, हेमाराम चौधरी, भंवरलाल शर्मा, दीपेंद्र सिंह शेखावत, विश्वेंद्र सिंह, रमेश मीणा, गजेंद्र सिंह शक्तावत, इंद्रराज गुर्जर, गजराज खटाणा, राकेश पारीक, पीआर मीणा, मुरारी लाल मीणा, सुरेश मोदी, वेद्रप्रकाश सोलंकी, मुकेश भाकर, रामनिवास गावडि़या, हरीश मीणा, बृजेंद्र ओला व अमर सिंह को नोटिस दिया है।

Share:

Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
Share on linkedin
Share on whatsapp

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

On Key

Related Posts

पावर कट से थमी मुंबई की रफ़्तार

लखनऊ : मानसिक विक्षिप्त महिला ने बच्ची को जन्म दिया पुलिस ने पहुंचाया अस्पताल

लखनऊ में सड़कों पर घूमने वाली मानसिक विक्षिप्त महिला ने बच्ची को जन्म दिया है। महिला सड़क पर प्रसव पीड़ा से तड़प रही थी। राहगीर

Foreign minister

अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने कहा ,भारत की उत्तरी सीमा पर चीन ने तकरीबन 60,000 सैनिकों की तैनाती,

वाशिंगटन : LAC पर भारत और चीन के मध्य  सीमा तनाव जारी है. सीमा पर गतिरोध के बीच चीन ने वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर 60,000 से

पश्चिम बंगाल : BJP की विरोध यात्रा में प्रदर्शन, पुलिस और कार्यकर्ताओ के बीच झड़प , लाठीचार्ज

पश्चिम बंगाल में बीजेपी ने अपने नेताओं और कार्यकर्ताओं की हत्‍या के विरोध में आज गुरुवार को राज्‍य समेत राजधानी कोलकाता में ‘नबन्ना चलो’ आंदोलन

लखनऊ के गोमती नगर इलाके की घटना फूड इंस्पेक्टर के घर डकैतों ने मारा लम्बा हाथ

– किसी भी सीसीटीवी में कैद नहीं हुई बदमाशों की तस्वीर – पुलिस ने आस-पास के कई संदिग्ध और लोकल बदमाशों को लिया हिरासत में

subscribe to our 24x7 Khabar newsletter