Most Popular

Social Media

Get The Latest Updates

Subscribe To Our Weekly Newsletter

No spam, notifications only about new products, updates.

Rapid antigen test negative, but if symptoms are seen then do RT-PCR test | रैपिड एंटीजन टेस्ट निगेटिव, पर लक्षण दिख रहे हों तो आरटी-पीसीआर टेस्ट कराएं


  • Hindi News
  • National
  • Rapid Antigen Test Negative, But If Symptoms Are Seen Then Do RT PCR Test

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नई दिल्ली22 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
कोरोना टेस्ट के लिए आरटी-पीसीआर टेस्ट के नतीजे सबसे भरोसेमंद हैं। - Dainik Bhaskar

कोरोना टेस्ट के लिए आरटी-पीसीआर टेस्ट के नतीजे सबसे भरोसेमंद हैं।

कोरोना की दूसरी लहर के बीच हाहाकार मचा हुआ है। इलाज से लेकर टेस्ट करवाने और वैक्सीन पर भी सवाल उठ रहे हैं। इनमें सबसे जरूरी है ये जानना कि टेस्ट कब करवाना चाहिए या फिर सीटी वैल्यू या सीटी स्कोर में क्या फर्क है। ऐसे ही कुछ सवालों के जवाब-

कोरोना टेस्ट कब करवाना चाहिए

ये लक्षण दिखने पर- बुखार, बदन दर्द, स्वाद और गंध न आने पर, सांस लेने में परेशानी। ये लक्षण पहले भी दिख रहे थे, लेकिन अब नए लक्षण दिख रहे हैं, जिनमें- आंखों में लालिमा या गुलाबीपन, सुनने में परेशानी और लूज मोशन भी हो रहे हैं। संक्रमित के संपर्क में आने पर- अगर आप 6 फीट की दूरी से या करीब 15 मिनट या ज्यादा तक संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में रहे हो।

कौन-सा टेस्ट सटीक और भरोसेमंद?

कोरोना टेस्ट के लिए आरटी-पीसीआर टेस्ट के नतीजे सबसे भरोसेमंद हैं। हालांकि इसकी रिपोर्ट आने में वक्त लगता है, लेकिन इसे गोल्ड स्टैंडर्ड माना जाता है। इसके अलावा रैपिड एंटीजन टेस्ट (रैट) भी होता है, जिसके नतीजे तुरंत पता चल जाते हैं। अगर रैट रिपोर्ट पॉजिटिव है, तो कोरोना है। अगर रैट रिपोर्ट निगेटिव होने के बावजूद लक्षण दिख रहे हैं, तो आरटी-पीसीआर करवाना ही चाहिए।

टेस्ट किन्हें नहीं करवाना चाहिए
अगर वैक्सीन के दोनों डोज लिए 2 हफ्ते हो चुके हों और किसी प्रकार की तकलीफ न हो या कोई लक्षण न दिख रहे हो, तो।

सीटी वैल्यू-सीटी स्कोर में फर्क क्या?

  • दोनों अलग-अलग हैं। सीटी वैल्यू साइकिल थ्रेशहोल्ड वैल्यू है, जो शरीर में वायरल लोड बताती है। अगर सीटी वैल्यू 35 से कम है, तो संक्रमण है। 22 से कम पर भर्ती होने की जरूरत है।
  • डॉक्टर कुछ मरीजों को सीने के सीटी स्कैन की सलाह दे रहे हैं ताकि संक्रमण का पता लगाया जा सके। इसमें सीटी स्कोर जितना ज्यादा होगा, संक्रमण भी उतना ही ज्यादा होगा।

सबसे महत्वपूर्ण; सुरक्षा और बचाव
1.कोविड की वैक्सीन आ चुकी है, लेकिन इसकी कोई दूसरी दवा नहीं है, इसलिए सावधानी सबसे बेहतर तरीका।
2. कोरोना के जो भी इलाज हो रहे हैं, वे सिर्फ प्रायोगिक तौर पर है न कि स्थायी, इसलिए बचाव ही एकमात्र उपाय।
3. मास्क पहने, बार-बार हाथ धोते रहे, फिजिकल या सोशल डिस्टेंसिंग यानी दो गज की दूरी जरूर अपनाएं।

खबरें और भी हैं…



Source link

Share:

Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
Share on linkedin
Share on whatsapp

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *