Most Popular

Social Media

Get The Latest Updates

Subscribe To Our Weekly Newsletter

No spam, notifications only about new products, updates.

second president of the United States John Adams refused to hand over office to his main rival at the 1800 election Thomas Jefferson | हारने पर व्हाइट हाउस नहीं छोड़ रहे थे अमेरिका के दूसरे राष्ट्रपति, कर्मचारियों ने आदेश मानना ही बंद कर दिया


  • Hindi News
  • International
  • Second President Of The United States John Adams Refused To Hand Over Office To His Main Rival At The 1800 Election Thomas Jefferson

23 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

जॉन एडम्स अमेरिका के दूसरे राष्ट्रपति और व्हाइट हाउस में रहने वाले पहले राष्ट्रपति थे। (फाइल फोटो)

बात अमेरिका में साल 1800 में हुए राष्ट्रपति चुनाव की है। अमेरिका के तत्कालीन राष्ट्रपति जॉन एडम्स साल को इस चुनाव में हार मिली थी। वह अमेरिका के दूसरे राष्ट्रपति और पहले उप राष्ट्रपति थे। उनके प्रतिद्वंदी थॉमस जेफ्फरसन ने जीत हासिल की। इसके बावजूद जॉन ने थॉमस को कार्यभार सौंपने से इनकार कर दिया। फिर वो हुआ जिसकी उन्होंने कभी कल्पना भी नहीं की थी।

20 जनवरी को थॉमस के शपथ ग्रहण समारोह में भी जॉन शामिल नहीं हुए। व्हाइट हाउस के कर्मचारी भी समारोह में नहीं गए। यही कारण है कि 20 जनवरी का मिड डे रूल्स नहीं लिखा जा सका। ये वही दिन होता है, जब अमेरिका का राष्ट्रपति नए इलेक्टेड प्रेसीडेंट को कार्यभार सौंपता है।

जिद के बावजूद व्हाइट हाउस छोड़ना पड़ा था
जॉन जिद पर अड़ गए थे। वह न तो व्हाइट हाउस छोड़ रहे थे और न ही अपना कार्यभार थॉमस को सौंप रहे थे। ऐसी स्थिति में उनके कर्मचारियों ने ही उनकी बातें सुनना बंद कर दिया। सारी सिक्योरिटी हट गई। ऑफिशियल कम्युनिकेशन कट कर दिया गया। प्रेसिडेंशियल स्टाफ ने उनसे आदेश लेना बंद कर दिया और प्रेसिडेंट ऑफिस भी हटा दिया गया।

विभागों ने भी नजरअंदाज करना शुरू कर दिया
हार के बावजूद व्हाइट हाउस में जमे जॉन को मिलिट्री, CIA,FBI और व्हाइट हाउस स्टाफ ने नजरअंदाज करना शुरू कर दिया। खुद को अपमानित होता देख आखिरकार जॉन ने हार स्वीकार की। आधिकारिक तौर पर उन्होंने 4 मार्च 1801 को कार्यभार थॉमस को सौंप दिया।

ट्रम्प भी अगर व्हाइट हाउस नहीं छोड़ते हैं तो क्या होगा?

  • सीक्रेट सर्विसेज अपना फोकस ट्रम्प के साथ बाइडेन पर भी कर सकती हैं।
  • CIA ट्रम्प और बाइडेन दोनों को ब्रीफिंग शुरू कर सकती है। (इसमें टॉप सीक्रेट इंटेलीजेंस की रिपोर्ट समेत अन्य खुफिया इनपुट्स भी शामिल होंगे। आमतौर पर ये कमांडर इन चीफ को ब्रीफ किया जाता है।)
  • CIA की काउंटर इंटेलिजेंस टीमें जो CIA के लिए जासूसी करती हैं, वो दोनों को ब्रीफिंग देना शुरू कर सकती हैं।
  • व्हाइट हाउस के कर्मचारी अपने नए राष्ट्रपति के हिसाब से काम करना शुरू कर सकते हैं।
  • 20 जनवरी के मिड डे व्हाइट हाउस का स्टाफ पुराने राष्ट्रपति के सामानों को बाहर करके नए राष्ट्रपति का सामान बिना किसी अनुमति के अंदर लेकर आ सकते हैं।
  • जनवरी से ट्रम्प की सैलरी से व्हाइट हाउस का रेंट कटना बंद हो जाएगा।
  • जनवरी से ही बाइडेन की प्रेसिडेंशियल सैलरी शुरू हो जाएगी और व्हाइट हाउस का रेंट उनकी सैलरी से कटने लगेगा।
  • 20 जनवरी मिड डे से मेलानिया ट्रम्प व्हाइट हाउस की बॉस नहीं रह जाएंगी। उनकी जगह स्टाफ डॉ. जिल बाइडेन को अपना बॉस मान सकता है।
  • 20 जनवरी मिड डे से राष्ट्रपति के सारे ऑफिशियल कम्युनिकेशन ट्रम्प के पास से हटा लिए जाएंगे।
  • पेंटागन, CIA, FBI, अटॉर्नी जनरल, सीक्रेट सर्विसेज के अफसर पुराने राष्ट्रपति को गार्ड देने से पहले तक संवाद जारी रखेंगे।
  • बिस्ट और एयरफोर्स वन ट्रम्प को सैल्यूट करेंगे और अपना फोकस बाइडेन की तरफ कर लेंगे।
  • बिस्ट बिना किसी के इजाजत के बाइडेन का ब्लड सैंपल लेगी। ऐसा 200 साल से चला आ रहा है।

अमेरिकी चुनाव से जुड़ीं ये खबरें भी पढ़ सकते हैं…

1. अमेरिका में पहली महिला उपराष्ट्रपति बनेंगी कमला हैरिस, एक साथ 3 रिकॉर्ड बनाए

2. 8 प्रेसिडेंट की कार्यकाल में मौत, बिना चुनाव जीते मुकद्दर के सिकंदर बने फोर्ड

3. 124 साल पुरानी परंपरा तोड़ सकते हैं ट्रम्प, मीडिया को आशंका- बाइडेन को बधाई नहीं देंगे राष्ट्रपति

4. 77 साल के बाइडेन ही अगले राष्ट्रपति होंगे, पेन्सिलवेनिया जीतकर ट्रम्प से जीत छीनी



Source link

Share:

Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
Share on linkedin
Share on whatsapp

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *