Most Popular

Social Media

Get The Latest Updates

Subscribe To Our Weekly Newsletter

No spam, notifications only about new products, updates.

Tannaz Irani’s Dedication: ‘Apna Time Bhi Aayega’ actress made distance for role, said- learned the art of casting from Ranveer Singh | ‘अपना टाइम भी आएगा’ की एक्ट्रेस ने रोल के लिए बनाई पार्टियों से दूरी, बोलीं- किरदार में ढलने की कला रणवीर सिंह से सीखी


  • Hindi News
  • Entertainment
  • Tv
  • Tannaz Irani’s Dedication: ‘Apna Time Bhi Aayega’ Actress Made Distance For Role, Said Learned The Art Of Casting From Ranveer Singh

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

2 मिनट पहलेलेखक: किरण जैन

  • कॉपी लिंक

हाल ही में शुरू हुआ नया फिक्शन शो ‘अपना टाइम भी आएगा’ जयपुर के एक अमीर घराने के हेड स्टाफ की बेटी रानी (मेघा रे) के सफर की कहानी है। शो में महारानी राजेश्वरी का रोल निभा रहीं एक्ट्रेस तनाज ईरानी अपने नेगेटिव किरदार में ढलने के लिए एक ऐसा तरीका खोजा है, जिससे उनका उत्साही व्यक्तित्व उनके रोल पर हावी ना हो। सुनने में आया है की एक्ट्रेस ने सेट पर सभी कलाकारों और क्रू के साथ एक दूरी बना ली है ताकि वो अपने किरदार में पूरी तरह उतर सकें। ऐसा करने के लिए तनाज किसी और से नहीं बल्कि खुद बॉलीवुड एक्टर रणवीर सिंह से प्रेरित हैं।

किरदार के लिए कलाकारों से बनाई दूरी

तनाज कहती हैं, ‘ये किरदार निभाना मेरे लिए मुश्किल है, क्योंकि ये मेरी पर्सनालिटी से पूरी तरह अलग है। मुझे बातें करना और नए लोगों से मिलना बहुत अच्छा लगता है और मैं हमेशा हर पार्टी की जान रही हूं लेकिन इस समय ये मेरे रोल की जरूरत नहीं है। इसलिए अपने किरदार की नेगेटिविटी को बरकरार रखने के लिए मैंने अपनी टीम से दूरी बनाने का फैसला किया है। मुझे लगता है यदि मैं सेट पर सभी के साथ घुलने-मिलने लगी, तो ये मेरे किरदार की सख्त छवि को तोड़ देगा और मैं अपने किरदार के प्रति वो सम्मान और व्यक्तित्व खो दूंगी। ये यकीनन मुश्किल है, लेकिन इससे पूरा माहौल जोश से भरा रहता है और ऐसे में जो काम होता है, उससे सभी संतुष्ट रहते हैं। आखिर हम सभी यहां अपना काम करने के लिए ही तो हैं।’

रणवीर सिंह से मिली तनाज ईरानी को प्रेरणा

तनाज आगे बताती हैं, “असल में इस किरदार की प्रेरणा मुझे रणवीर सिंह से मिली, जब उन्होंने फिल्म ‘पद्मावत’ में अपने किरदार में ढलने के लिए खुद को कमरे में बंद कर लिया था। मुझे लगता है कि यदि वे फिल्मों के लिए ऐसा कर सकते हैं, तो हमें टेलीविजन के लिए भी ऐसा करना चाहिए क्योंकि इससे वाकई में मदद मिलती है। यह मेरे लिए भी फायदेमंद साबित रहा। लोग टेलीविजन एक्टिंग को सीरियसली नहीं लेते हैं। लेकिन मेरा मानना है कि यदि आप इसे बरकरार रखें और गंभीरता से लें, तो इससे एक एक्टर के रूप में आपको जरूर फायदा हो सकता है।”



Source link

Share:

Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
Share on linkedin
Share on whatsapp

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *