Most Popular

Social Media

Get The Latest Updates

Subscribe To Our Weekly Newsletter

No spam, notifications only about new products, updates.

The conspiracy to blow up BJP leader Hemant Bishwa Sarma failed before the election, the police arrested three ULFA terrorists | असम के स्वास्थ्य मंत्री हेमंत बिश्व सरमा की हत्या की साजिश नाकाम, उल्फा के 3 सदस्य अरेस्ट


  • Hindi News
  • National
  • The Conspiracy To Blow Up BJP Leader Hemant Bishwa Sarma Failed Before The Election, The Police Arrested Three ULFA Terrorists

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

गुवाहाटीएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक
हेमंत बिश्व सरमा असम में भाजपा के कद्दावर नेता हैं। पुलिस ने उनकी हत्या की साजिश का खुलासा फोन टेपिंग से किया है। - Dainik Bhaskar

हेमंत बिश्व सरमा असम में भाजपा के कद्दावर नेता हैं। पुलिस ने उनकी हत्या की साजिश का खुलासा फोन टेपिंग से किया है।

असम के स्वास्थ्य मंत्री और भाजपा के कद्दावर नेता हेमंत बिश्व सरमा की हत्या की साजिश रचने के आरोप में पुलिस ने 3 लोगों को गिरफ्तार किया है। इनमें आतंकी संगठन यूनाइटेड लिबरेशन फ्रंट ऑफ असम (ULFA) के बातचीत करने की हिमायत करने वाले गुट के उपाध्यक्ष प्रदीप गोगोई और उनके 2 साथी शामिल हैं।

गुवाहाटी के पुलिस कमिश्नर मुन्ना प्रसाद गुप्ता ने बताया कि पुलिस को साजिश के बारे में सूचना मिली थी। इसके बाद पुलिस ने घेराबंदी शुरू कर दी। इसमें गोगोई समेत 3 आरोपी दबोचे गए हैं। उन्होंने कहा कि हमने सोमवार रात तीनों को गिरफ्तार किया है। पूछताछ के बाद उन्हें कोर्ट में पेश किया गया। उन्हें 3 दिन के लिए पुलिस हिरासत में भेज दिया गया है।

कौन है प्रदीप गोगोई
पुलिस ने बताया कि प्रदीप गोगोई यूनाइटेड लिबरेशन फ्रंट ऑफ असम (ULFA) के बातचीत का समर्थन करने वाले गुट का नेता है। यह संगठन साल 2011 से ही सरकार से बातचीत कर रहा है। प्रदीप और उसके साथियों को गुवाहाटी के हांटीगांव से गिरफ्तार किया गया है। दो अन्य कार्बी जिले के रहने वाले बताए जा रहे हैं। पुलिस ने हत्या की साजिश का खुलासा फोन टेपिंग से किया है।

प्रदीप गोगोई यूनाइटेड लिबरेशन फ्रंट ऑफ असम (ULFA) के समर्थक बातचीत गुट का नेता है। यह संगठन साल 2011 से ही सरकार से बातचीत कर रहा है।

प्रदीप गोगोई यूनाइटेड लिबरेशन फ्रंट ऑफ असम (ULFA) के समर्थक बातचीत गुट का नेता है। यह संगठन साल 2011 से ही सरकार से बातचीत कर रहा है।

तीनों पर IPC की धारा 120 बी (आपराधिक साजिश), 121 (सरकार के खिलाफ युद्ध छेड़ने की कोशिश) समेत विभिन्न धाराओं और गैरकानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम की धारा 18 (एक आतंकवादी कृत्य की साजिश) सहित कई आरोप लगाए गए हैं।

खबरें और भी हैं…



Source link

Share:

Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
Share on linkedin
Share on whatsapp

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *