Most Popular

Social Media

Get The Latest Updates

Subscribe To Our Weekly Newsletter

No spam, notifications only about new products, updates.

Uddhav Thackeray Narendra Modi Video Conferencing update; Maharashtra CM On Vaccine Stock and Remdesivir Injection Cost | PM मोदी की आज मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक, महाराष्ट्र के CM इन पांच मांगों को रखेंगे; पवार बोले-केंद्र लगातार कर रहा मदद


  • Hindi News
  • Local
  • Maharashtra
  • Uddhav Thackeray Narendra Modi Video Conferencing Update; Maharashtra CM On Vaccine Stock And Remdesivir Injection Cost

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मुंबई30 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
अन्य मुख्यमंत्रीयों के साथ CM उद्धव और PM मोदी के बीच यह बैठक वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से होगी। (फाइल फोटो) - Dainik Bhaskar

अन्य मुख्यमंत्रीयों के साथ CM उद्धव और PM मोदी के बीच यह बैठक वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से होगी। (फाइल फोटो)

महाराष्ट्र और देश के कई हिस्सों में जारी कोरोना संकट के बीच प्रधानमंत्री आज फिर एक बार मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक करने जा रहे हैं। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से होने वाली इस मीटिंग में महाराष्ट्र में विकराल होते कोरोना की स्थिति पर प्रमुखता से चर्चा होने की उम्मीद जताई जा रही है। CM उद्धव ठाकरे महाराष्ट्र में वैक्सीन के घटते स्टॉक, ऑक्सीजन की बढ़ती मांग और वैक्सीनेशन के लिए उम्र सीमा घटाने का मुद्दा उठा सकते हैं। इसके अलावा बैठक में स्थानीय स्तर पर लॉकडाउन और कड़े प्रतिबंध लगाने पर भी बात हो सकती है।

महाराष्ट्र के CM रखेंगे ये पांच मांगे-

  1. प्रतिदिन 6 लाख वैक्सीन की डोज महाराष्ट्र को मुहैया कराई जाएं।
  2. रेमडेसिवीर की कीमत को नियंत्रित की जाए।
  3. ऑक्सीजन की सप्लाई पड़ोसी राज्यों से बढ़ाई जाए।
  4. खराब पड़े वेंटीलेटर के लिए तकनीकी मदद दी जाए।
  5. वैक्सीनेशन के लिए उम्र सीमा को 45 से कम करके 25 साल तक किया जाए।

शरद पवार ने कहा- केंद्र लगातार महाराष्ट्र का सहयोग कर रही है
कोरोना के बिगड़ते हाल के बीच एक ओर जहां शिवसेना के नेता और मंत्री केंद्र पर वैक्सीन नहीं देने जैसे आरोप लगा रहे हैं, वहीं राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) के प्रमुख शरद पवार ने कहा है कि महामारी के इस कठिन समय में केंद्र सरकार लगातार राज्य सरकार का सहयोग कर रही है। गुरुवार को पवार ने कहा- ‘केंद्र सरकार महामारी के इस कठिन समय में राज्य सरकार के साथ सहयोग कर रही है। हम सभी को एकजुट होकर इस खतरे से लड़ना होगा। राज्य और केंद्र दोनों को साथ आना होगा और महामारी से लड़ने का तरीका खोजना होगा।’

संजय राउत ने केंद्र पर लगाया ये आरोप
इससे पहले शिवसेना नेता संजय राउत ने केंद्र सरकार पर महाराष्ट्र सरकार को नीचा दिखाने का आरोप लगाया था। उन्होंने कहा- ‘महाराष्ट्र को नीचा दिखाने और बदनाम करने की कोशिश चल रही है। हर्षवर्धन से ये उम्मीद नहीं थी। महाराष्ट्र एक बड़ा राज्य है और सबसे ज्यादा प्रेशर है। एक-दूसरे के ऊपर टिप्पणी ना करके एक साथ मिल कर चलना चाहिए। महाराष्ट्र सरकार को अस्थिर करने की कोशिश पहले दिन से चल रही है, लेकिन ये कोशिश कामयाब नहीं होगी।’

महाराष्ट्र में खत्म होने वाला है वैक्सीन का स्टॉक

प्रमुख सचिव (स्वास्थ्य) प्रदीप व्यास ने बताया- ‘बुधवार की सुबह तक राज्य में करीब 14 लाख वैक्सीन डोज थी। कई जिलों में आज या कल तक स्टॉक खत्म हो जाएगा। केंद्र को इस बात की जानकारी है और हमने लिखित में बताया है। अगर शेड्यूल और वैक्सीन की उपलब्धता हो तो महाराष्ट्र में रोज आसानी से पांच लाख शॉट दिए जा सकते हैं।’

महाराष्ट्र में सप्ताह 40 लाख डोज की जरूरत

महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने भी बताया कि राज्य को 40 लाख डोज एक सप्ताह में जरूरी है। हम दिन 4-5 लाख लोगों को वैक्सीन दे रहे हैं, ऐसे में अगर वैक्सीन नहीं मिली तो बड़ी समस्या हो सकती है। टोपे ने कहा,’हम सेंटर के 6 लाख डोज हर दिन लगाने के चैलेंज को स्वीकार करते हैं, लेकिन वैक्सीन होनी तो चाहिए।’

टीके की कमी से सातारा में रोका गया वैक्सीनेशन

महाराष्ट्र के सातारा में बुधवार रात से कोरोना वैक्सीनेशन प्रोग्राम पर फिलहाल के लिए रोक लगा दी गई है। इसके पीछे बड़ा कारण कोरोना वैक्सीन की कमी को बताया जा रहा है। जिला प्रशासन की ओर से जिले में कोरोना वैक्सीन के खत्म होने का हवाला दिया है। इस बात की जानकारी देते हुए सतारा जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी विनय गौड़ा ने बताया कि सातारा में अब तक 45 साल से अधिक उम्र के 2.6 लाख लोगों को वैक्सीन की पहली डोज दी जा चुकी है।

महाराष्ट्र में ऑक्सीजन की भारी किल्लत होने वाली है

राज्य की खाद्य और दवा नियामक (FDA) ने आने वाले दिनों में ऑक्सीजन की कमी को लेकर आशंकाएं जाहिर की है। राज्य के स्वास्थ्य विभाग ने FDA को यह सूचित किया है कि अप्रैल के आखिर तक महाराष्ट्र में एक्टिव केस की संख्या बढ़कर 9 लाख तक पहुंच सकती है। इसी के साथ ऑक्सीजन की मांग भी दोगुनी हो जाएगी। फरवरी महीने में महाराष्ट्र के अस्पतालों में जहां 150 से 200 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की जरूरत थी तो वहीं यह मांग मार्च के आखिर तक बढ़कर 650 से 750 मीट्रिक टन तक पहुंच गई है।

6 अप्रैल को महाराष्ट्र में ऑक्सीजन की खपत बढ़कर 777 मीट्रिक टन पहुंच गई। महाराष्ट्र में प्रतिदिन ऑक्सीजन उत्पादन की अधिकतम क्षमता 1250 मीट्रिक टन है। फिलहाल महाराष्ट्र हर दिन 30 से 50 मीट्रिक टन ऑक्सीजन गुजरात से लेता है और जल्द ही छत्तीसगढ़ से भी उसे हर दिन 50 मीट्रिक टन ऑक्सीजन मिलेगा।

आज केंद्र से आएगी 30 लोगों की मेडिकल टीम

महाराष्ट्र में बढ़ते मामलों को देखते हुए केंद्र सरकार ने 30 लोगों की एक मेडिकल टीम को महाराष्ट्र में भेजा है, जो राज्य के अधिकारियों को कोरोना कंट्रोल करने के लिए स्ट्रेटेजी बनाने में मदद करेगी।

महाराष्ट्र में कोरोना की स्थिति

कुल टेस्ट 2,11,48, 736
कुल पॉजिटिव केस 31,73,261
नए मरीज 59907
कुल मौत 55652
कुल ठीक हुए 26,13,627
पॉजिटिवीटी रेट 15%
डेथ रेट 1.75 %
रिकवरी रेट 82.36%

खबरें और भी हैं…



Source link

Share:

Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
Share on linkedin
Share on whatsapp

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *