Vidhan Parishad Election In Up Samajwadi Party Candidate Nomination Akhilesh Yadav – विधान परिषद चुनाव: सपा के दोनों प्रत्याशी आज करेंगे नामांकन, अखिलेश यादव रहेंगे मौजूद


सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव।
– फोटो : amar ujala

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने गुरुवार को दूसरे दिन भी विधायकों के साथ बैठक कर विधान परिषद चुनाव की रणनीति बनाई। विधान परिषद के लिए सपा उम्मीदवार अहमद हसन और राजेन्द्र चौधरी आज 11 बजे नामांकन पत्र दाखिल करेंगे। इस दौरान अखिलेश भी मौजूद रहेंगे।

विधान सभा में सपा के 49 विधायक हैं लेकिन सपा ने दो प्रत्याशी उतारे हैं। दूसरे उम्मीदवार को जिताने के लिए सपा को अतिरिक्त मत जुटाने पड़ेंगे। उसकी नजर कांग्रेस और सुभासपा विधायकों के साथ ही बसपा व भाजपा के बागियों पर है। बसपा के आधा दर्जन से अधिक विधायक पहले ही सपा के पक्ष में आ चुके हैं। 

विधान परिषद चुनाव के लिए मतदान होने पर इनकी संख्या बढ़ सकती है। सपा नेताओं का दावा है कि भाजपा के कई विधायक उनके संपर्क में है। यदि भाजपा ने 10 से ज्यादा प्रत्याशी उतारे तो चुनाव की नौबत आएगी। भाजपा के 10 और सपा के 2 उम्मीदवार ही मैदान में उतरे तो सभी का निर्विरोध निर्वाचन लगभग तय है।

सपा यह मानकर तैयारी कर रही है कि भाजपा आखिरी वक्त में 11वें प्रत्याशी को अधिकृत या समर्थित उम्मीदवार के रूप में उतार सकती है। सपा अध्यक्ष अखिलेश खुद दोनों उम्मीदवारों की जीत के लिए रणनीति बनाने में जुटे हैं। 
बृहस्पतिवार को लगातार दूसरे दिन उन्होंने वरिष्ठ नेताओं और विधायकों के साथ बैठक की। सपा कार्यालय में दोनों उम्मीदवारों के नामांकन पत्रों को भरकर पूरा कर लिया गया है। उन पर प्रस्तावकों के हस्ताक्षर करा लिए गए हैं। शुक्रवार को 11 बजे विधान मंडल के सेंट्रल हॉल में नामांकन पत्र दाखिल किए जाएंगे।

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने गुरुवार को दूसरे दिन भी विधायकों के साथ बैठक कर विधान परिषद चुनाव की रणनीति बनाई। विधान परिषद के लिए सपा उम्मीदवार अहमद हसन और राजेन्द्र चौधरी आज 11 बजे नामांकन पत्र दाखिल करेंगे। इस दौरान अखिलेश भी मौजूद रहेंगे।

विधान सभा में सपा के 49 विधायक हैं लेकिन सपा ने दो प्रत्याशी उतारे हैं। दूसरे उम्मीदवार को जिताने के लिए सपा को अतिरिक्त मत जुटाने पड़ेंगे। उसकी नजर कांग्रेस और सुभासपा विधायकों के साथ ही बसपा व भाजपा के बागियों पर है। बसपा के आधा दर्जन से अधिक विधायक पहले ही सपा के पक्ष में आ चुके हैं। 

विधान परिषद चुनाव के लिए मतदान होने पर इनकी संख्या बढ़ सकती है। सपा नेताओं का दावा है कि भाजपा के कई विधायक उनके संपर्क में है। यदि भाजपा ने 10 से ज्यादा प्रत्याशी उतारे तो चुनाव की नौबत आएगी। भाजपा के 10 और सपा के 2 उम्मीदवार ही मैदान में उतरे तो सभी का निर्विरोध निर्वाचन लगभग तय है।

सपा यह मानकर तैयारी कर रही है कि भाजपा आखिरी वक्त में 11वें प्रत्याशी को अधिकृत या समर्थित उम्मीदवार के रूप में उतार सकती है। सपा अध्यक्ष अखिलेश खुद दोनों उम्मीदवारों की जीत के लिए रणनीति बनाने में जुटे हैं। 



Source link

Share:

Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
Share on linkedin
Share on whatsapp

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *