Most Popular

Social Media

Get The Latest Updates

Subscribe To Our Weekly Newsletter

No spam, notifications only about new products, updates.

Where the river is sanding the embankment, there is no repair, where it is safe, crores of rupees have been spent there. | तटबंध को जहां रेत रही नदी वहां कोई मरम्मत नहीं, जहां सुरक्षित वहां खर्च किए करोड़ों रुपए


  • Hindi News
  • National
  • Where The River Is Sanding The Embankment, There Is No Repair, Where It Is Safe, Crores Of Rupees Have Been Spent There.

13 मिनट पहलेलेखक: पूर्वी कोसी बांध से नवीन निशांत

  • कॉपी लिंक
नदी के दबाव को झेल पाएगा यह बांध? 60 लाख लोगों की अटकी हैं सांसें। - Dainik Bhaskar

नदी के दबाव को झेल पाएगा यह बांध? 60 लाख लोगों की अटकी हैं सांसें।

कोसी में बाढ़ का सीजन आ गया हैं। बांध की सुरक्षा से जुड़े जल संसाधन विभाग के इंजीनियरों ने तैयारी उस जगह पर की है जहां इस बार कोसी का थ्रेट नहीं दिख रहा। और जहां नदी की धारा बांध को दरेरने के करीब है, वहां कोई तैयारी नहीं है। सहरसा जिले के तीन डिविजनों (सुपौल, चन्द्रायण और कोपरिया) में पड़ने वाले 53 कि.मी. लंबे कोसी पूर्वी बांध की सुरक्षा की स्थिति देख कर अनायास सवाल कौंध गया … बालू की भीत की तरह खड़ा 125 कि.मी. लंबा (भीमनगर-वीरपुर से कोपरिया तक) पूर्वी बांध कोसी के दबाव को झेल पाएगा भी कि नहीं ? देश के सबसे बड़े तटबंधों में एक कोसी तटबंध की अग्निपरीक्षा हर साल बाढ़ के दिनों में होती है। बाढ़ की घोषित अवधि 15 जून से 15 अक्टूबर तक कोसी प्रमंडल के 60 लाख से अधिक लोगों की सांसें अटकी रहती हैं।

लोग बस एक ही सवाल पूछते रहते हैं कि क्या इस साल बांध सुरक्षित रह पाएगा ? कोसी की धारा बांध के करीब पहुंची तो अत्यधिक डिस्चार्ज को झेल पाना बस भगवान की कृपा पर ही निर्भर होगा क्योंकि, मानसून पहली बारिश में ही पूर्वी बांध पर बलबा, नौलखा, शाहपुर, के समीप बने एक दर्जन रेन कट से बालू से खड़े किए गए कमजोर बांध की स्थिति सामने आ गई है। खतरनाक रेनकटों को समय रहते मजबूत नहीं किया गया तो कोसी के अत्यधिक दबाव को बांध शायद ही झेल पाएगा। इस क्षेत्र के लोग 5 सितंबर 1984 को नवहट्‌टा हेमपुर के निकट मिट्‌टी के तटबंध के बह जाने के बाद हुई तबाही को नहीं भूल पाए हैं। अब तो बांध रेत पर खड़ा है।

ये बांध नहीं...बालू की भीत... न टूटे तो कोसी की कृप

ये बांध नहीं…बालू की भीत… न टूटे तो कोसी की कृप

कुसहा त्रासदी के बाद बांध की मजबूती का हुआ था फैसला…लेकिन जमीन पर नहीं हुआ काम

2008 में कुसहा त्रासदी के बाद राज्य सरकार ने पूर्वी और पश्चिमी कोसी तटबंध के मजबूतीकरण , पक्की करण और ऊंची करण का निर्णय लिया था। आंध्र प्रदेश की बशिष्ठा कंपनी को 534 करोड़ का ठेका दिया गया। कंपनी बीच में ही काम छोड़ कर भाग गई। कंपनी ने कोसी नदी के किनारे की रेत पर ही बांध को 5 से 6 फीट उंचा तो कर दिया लेकिन जब बारिश होती है तो बालू की भीत की तरह बांध की परत दर परत खुलती जा रही है।

6 कि.मी. के दायरे में कोसी तटबंध के काफी करीब
नवहट्‌टा प्रखंड क्षेत्र में पड़ने वाले करीब 6 कि.मी. के दायरे (78.30 से 83.40 कि.मी.) में ही कोसी की धारा तटबंध के करीब से बहती है। इसके बाद कोसी राजनपुर से आगे तक अभी बांध से दूर बह रही है जो गंभीर खतरे का संकेत नहीं है। नवहट्‌टा प्रखंड से सहरसा जिले की सीमा से बांध की स्थिति का जायजा लेने के दौरान एक बात उभर कर आयी कि कोसी इसबार वहां खतरा बढ़ा सकती है वहां सुरक्षात्मक कार्य किया ही नहीं गया है।

इधर, पिछले दो तीन वर्षों से पूर्वी तटबंध के पुराना बांध पहाड़पुर के समीप 78.30 कि.मी. बिन्दु पर दबाव बना चुकी कोसी इसबार यहां अभी तक शांत दिख रही है। लोगों ने कहा कि इस बिन्दु से 3 कि.मी. दूर बरियाही गांव के समीप सिल्टेशन से नदी ने धारा बदल ली है। हलांकि इसबार भी इस बिन्दु पर जल संसाधन विभाग के इंजीनियरों ने बांध सुरक्षा के नाम पर 3 करोड़ 46 लाख खर्च किया है।

योजका ने पूरा नहीं किया स्पर मजबूतीकरण का काम
पूर्वी तटबंध के 78.39 कि.मी. बिन्दु से सटे 78.60 कि.मी. ई-2 स्पर को दुरुस्त करने के लिए मशीनें लगी दिखीं। इस कार्य का आदेश कर्नाटक की कंपनी योजका को वर्ष 2018 में ही मिला था। 116.46 करोड़ की राशि से 78 से 84 कि.मी. बिन्दु के बीच बांध की सुरक्षा के लिए बने पुराने जर्जर 18 स्परों का पुर्नस्थापना करना था। यह कार्य 24 महीने में पूरा किया जाना था जो अब तक पूरा नहीं हो सका है।
कोसी की चाल बता रही है… इसबार बाढ़ आएगी

78.60 कि.मी. बिन्दु जिसे असई घाट ई-2 स्पर के रूप में लोग जानते हैं। यहां 30 वर्षों से नाश्ते की दुकान चलाने वाले बुद्धि साह कोसी की बलखाती धारा को दिखाते हुए कहते हैं – देखिए जहां अब नदी की तेज धारा बह रही है, वहां पहले हमलोगों का घर था। जमीन थी। सब कोसी के पेट में सब समा गया। इसी स्पर पर 30 सालों से कोसी की मचलती धारा को देख किसी तरह परिवार के साथ जीवन जी रहा हूं।

बुद्धि साह थोड़ी देर गुमसुम रहने के बाद कहते हैं- इस बार कोसी की चाल बता रही है कि पानी अधिक आएगा। नदी प्रचंड रूप दिखाएगी। दावे की बुनियाद वषों पुराने अनुभव पर टिकी है। साह कहते हैं कि कोसी का इतिहास रहा है जिस साल बाढ़ नहीं आती उसके अगले साल नदी अधिक परेशान करती है। सुन रहे हैं कि इस बार सामान्य से अधिक बारिश भी होने वाली है।

79 कि.मी. बिन्दु पर बांध के करीब पहुंच गई कोसी नदी
असय घाट से आगे बढ़ने पर बांध पर तीन चार युवक मिले। बोले- यहां देखिए बांध के करीब पहुंच गई है कोसी। इस स्पर को कोई इंजीनियर देखने नहीं आया। यहां एक छटांक नया काम नहीं हुआ। यह रिटायर्ड बांध का दक्षिणी किनारा है। यहां पहले पॉरक्यूपाई लगी थी जो क्षतिग्रस्त हो चुकी है। पूर्वी कोसी बांध के किनारे शाहपुर के रायटोला के लोगों को डर इसीलिए सता रहा है कि कोसी उनके दरवाजे पर दस्तक दे रही है।

खबरें और भी हैं…



Source link

Share:

Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
Share on linkedin
Share on whatsapp

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *